World’s Saddest Gorilla Bua Noi : ये है दुनिया का सबसे दुखी गोरिल्ला, जो पिछले 33 सालों से पिंजरे में है कैद

World’s Saddest Gorilla Bua Noi : इस धरती पर अनेक प्रकार के जीव जंतु निवास करते हैं, जिनका घर मूल रूप से जंगल होता है। हालांकि इंसान ने अपने मनोरंजन के लिए इन जीवों को जंगल से पकड़ कर चिड़िया घर में कैद कर दिया है, जिसकी वजह से यह पशु सालों साल इंसानों की कैद में रहते हुए अपना दम तोड़ देते हैं।

ऐसे ही अकेलेपन का दर्द झेल रहा है बुआ नोई (Bua Noi) नामक एक गोरिल्ला, जो पिछले कई सालों से एक पिंजरे में कैद है। इस गोरिल्ला को मनोरंजन के लिए थाईलैंड (Bangkok, Thailand) के एक चिड़िया घर में लाया गया था, लेकिन अब इस गोरिल्ला को कैद में रहते हुए इतने साल गुजर चुके हैं कि इसे दुनिया का सबसे अकेला और दुखी गोरिल्ला माना जा रहा है।

Bua Noi

कौन है बुआ नोई? (Who is Bua Noi?)

बुआ नोई (Bua Noi) एक मादा गोरिल्ला है, जिसे 1 साल की उम्र की साल 1990 में जर्मनी से थाईलैंड लाया गया था। इस गोरिल्ला को थाईलैंड के पाटा शॉपिंग मॉल (Gorilla cage in shopping mall) में स्थित एक छोटे से चिड़िया घर में कैद करके रखा गया है, जिसे दुनिया का सबसे गंदा और अव्यवस्थित चिड़िया घर भी माना जाता है।

बुआ नोई का असल नाम लिटिल लोटस है, जिसने अपनी जिंदगी के लगभग 33 साल चिड़िया घर के एक छोटे से पिंजरे में कैद रहते हुए बिता दिए हैं। जो व्यक्ति चिड़िया घर में घूमने के लिए आता है, तो उससे बुआ नोई की उदास हालत देखी नहीं जाती है जिसकी वजह से पूरे थाईलैंड में इस गोरिल्ला को आजाद करने की मुहिम शुरू की जा चुकी है।

क्या कैद से आजाद हो पाएगी बुआ नोई?

दुनिया के इस सबसे अकेले और दुखी गोरिल्ला को कैद से आजाद करवाने के लिए थाईलैंड के पशु कार्यकर्ता काफी कोशिश कर चुके हैं, लेकिन चिड़िया घर का मालिक बुआ नोई की कीमत तय कर चुका है। ऐसे में चिड़िया घर के मालिक का कहना है कि अगर कोई व्यक्ति बुआ नोई के बदले उसे 66, 64, 471 रुपए की रकम अदा कर देता है, तो वह इस गोरिल्लो को कैद से आजाद कर देगा।

इस गोरिल्ला को कैद से आजाद करवाने के लिए पशु कार्यकर्ताओं ने साल 2015 में पाटा मॉल के प्रबंधक और थाई सरकार से भी गुहार लगाई थी, लेकिन पशु कार्यकर्ताओं की मांग को नजरअंदाज कर दिया गया था। दरअसल चिड़िया घर के मालिक का कहना है कि उन्होंने बुआ नोई को तब खरीदा था, जब थाईलैंड में पशुओं को खरीदने या बेचने को लेकर कोई कानून नहीं बनाया गया था।


ऐसे में सरकार या सरकारी संगठन चिड़िया घर के मालिक पर बुआ नोई को आजाद करने के लिए दबाव नहीं बना सकते हैं, जबकि मालिक बुआ नोई को आजाद करने के लिए मोटी रकम की मांग कर रहा है। इस स्थिति में पशु कार्यकर्ता जर्मनी से उम्मीद लगाए बैठे हैं, जो बुआ नोई को खरीद सकते हैं।

पैसा इकट्ठा करने के लिए शुरू की मुहिम

थाईलैंड के प्राकृतिक संसाधन और पर्यावरण मंत्री वरावुत सिल्पा-अर्चा ने वादा किया है कि वह बुआ नोई (Bua Noi) को रिहा करवाने के लिए चिड़िया घर के मालिक को 782, 000 अमेरिकी डॉलर का भुगतान करेंगे, जिसके बाद बुआ नोई को जर्मनी के एक वन्य संरक्षण में दूसरे गोरिल्ला के साथ रखा जाएगा।

चिड़िया घर के मालिक को बुआ नोई (Bua Noi) की कीमत अदा करने के लिए थाईलैंड सरकार द्वारा धन जुटाने वाले अभियान शुरू किए गए हैं, जिसके तहत आम जनता से पैसे इकट्ठा करके गोरिल्ला को छुड़वाने के लिए धनराशि जमा की जाएगी। वहीं पेटा एशिया ने बुआ नोई की हालत पर दुख जताते हुए कहा कि यह स्थिति भयानक और क्रूर है।

इसे भी पढ़ें –

Jane Lu : सफाई कर्मी माता-पिता की बेटी बनी करोड़पति, झूठ बोलकर शुरू किया था बिजनेस

Restaurant On Wheels : जर्जर रेलवे कोच को बनाया खूबसूरत रेस्टोरेंट, एक साथ 32 लोग बैठकर खा सकते हैं खाना

Chhath Puja 2022 : छठ पूजा में नाक से मांग तक लंबा सिंदूर क्यों लगाती हैं महिलाएँ, जानें इसके पीछे छिपी खास मान्यता

अगर ATM से पैसे निकालते वक्त न निकले कैश, तो बैंक को देना होगा हर दिन 100 रुपए जुर्माना