Restaurant On Wheels : जर्जर रेलवे कोच को बनाया खूबसूरत रेस्टोरेंट, एक साथ 32 लोग बैठकर खा सकते हैं खाना

Restaurant On Wheels : भारतीय रेलवे यातायात का एक सबसे प्रचलित माध्यम है, जिसे जरिए रोजाना करोड़ों लोग सफर करते हैं। ऐसे में ट्रेन में सफर करते हुए यात्री विभिन्न प्रकार के खाद्य पदार्थों और भोजन का आनंद उठाते हैं, जो रेलवे की तरफ से मुहैया करवाए जाते हैं या फिर कुछ लोग अपने घर से खाना लाकर ट्रेन में खाते हैं।

लेकिन क्या हो अगर ट्रेन के उसी कोच को आकर्षक रेस्टोरेंट में तब्दील कर दिया जाए, जहाँ आप अपने दोस्त, परिजनों और पार्टनर के साथ खाना खाने का आनंद उठा सकते हैं। इस रेस्टोरेंट के लिए आपको न तो हजारों रुपए का टिकट खरीदना होगा और न ही लंबी यात्रा करनी पड़ेगी, क्योंकि यह ट्रेन कोच रेस्टोरेंट पश्चिम बंगाल में स्थित है।

पुराने रेलवे कोच को बनाया शानदार रेस्टोरेंट

अगर आप रेलवे ट्रैक पर ट्रेन के अंदर खाना खाने का आनंद उठाना चाहते हैं, तो इसके लिए आपको सिलीगुड़ी में स्थित न्यू जलपाईगुड़ी रेलवे स्टेशन जाना होगा। इस रेलवे स्टेशन के बाहर देश का पहला ऑन व्हील रेस्टोरेंट की शुरुआत की गई है, जिसे बनाने के लिए ट्रेन के एक जर्जर डिब्बे का इस्तेमाल किया गया है।

यह कोच रेस्टोरेंट बाहर से दिखने में ट्रेन के डिब्बे की तरह लगता है, जिसके अंदर एक साथ लगभग 32 लोग बैठकर खाना खा सकते हैं। इतना ही नहीं रेलवे कोच रेस्टोरेंट में ग्राहकों की सुविधा के लिए एसी भी लगाया गया है, जबकि यहाँ अलग-अलग प्रकार के व्यंजन भी परोसे जाते हैं।

रेलवे कोच के बाहरी हिस्से में हावड़ा ब्रिज, लाल किला और विक्टोरिया मेमोरियल जैसे मशहूर पर्यटन स्थलों की तस्वीर बनाई गई है, जिससे ट्रेन रेस्टोरेंट की खूबसूरती में चार चांद लग गए हैं। इस रेस्टोरेंट में ग्राहकों को भारतीय, चाइनीज और साउथ इंडियन फूड आइटम्स परोसे जाएंगे, जबकि यहाँ चाय और कॉफी जैसे पेय पदार्थ भी उपलब्ध हैं।

पहाड़ी स्टेशनों पर भी बनेंगे रेलवे कोच रेस्टोरेंट

न्यू जलपाईगुड़ी रेलवे स्टेशन पर मौजूद इस रेलवे कोच रेस्टोरेंट का उद्घाटन कुछ दिन पहले ही किया गया है, लेकिन इसके बावजूद भी यह पूरे इलाके में काफी ज्यादा मशहूर हो चुका है। इतना ही नहीं रेलवे स्टेशन पर आने वाले यात्री भी रेस्टोरेंट में बैठकर चाय, कॉफी और विभिन्न प्रकार के फूड आइटम्स का लुफ्त उठाते हैं, जिसकी वजह से रेलवे को ग्राहकों का अच्छा रिस्पॉंस मिल रहा है।

ऐसे में उत्तर-पूर्व सीमांत रेलवे विभाग न्यू जलपाईगुड़ी के अलावा अन्य पहाड़ी रेलवे स्टेशनों के बाहर भी इसी प्रकार के रेलवे कोच रेस्टोरेंट बनाने पर विचार कर रहा है, क्योंकि इससे ग्राहकों को अच्छा खाना मिलेगा जबकि रेलवे विभाग की कमाई भी बढ़ेगी। इस तरह के रेस्टोरेंट होने से यात्रियों को साफ और स्वच्छ भोजन की तलाश में रेलवे स्टेशन से दूर जाने की जरूरत नहीं पड़ेगी, जो सुबह 6 बजे से रात के 10 बजे तक खुले रहते हैं।

देश में कोच रेलवे रेस्टोरेंट्स का चलन

आपको बता दें कि यह पहली बार नहीं है जब देश में रेलवे कोच रेस्टोरेंट को खोला गया है, बल्कि इससे पहले वेस्ट सेंट्रल रेलवे ने सतना जंक्शन पर रेलवे कोच रेस्टोरेंट की शुरुआत की थी। हालांकि वह रेलवे कोच रेस्टोरेंट ऑन व्हील पर मौजूद नहीं थी, जहाँ लोग अलग-अलग प्रकार के स्वादिष्ट व्यंजनों का लुफ्त उटा सकते हैं।

सतना जंक्शन पर मौजूद रेलवे कोच रेस्टोरेंट सप्ताह के सातों दिन और 24 घंटे खुला रहता है, जिसकी वजह से यहाँ आने वाले यात्रियों को भोजन और पेय पदार्थ सम्बंधी परेशानियों का सामना नहीं करना पड़ता है। इसके अलावा जबलपुर में भी पुराने कोच को रेस्टोरेंट में तब्दील किया गया है, जबकि मुंबई और आसनसोल में भी रेलवे कोच रेस्टोरेंट देखने को मिलते हैं।

इसे भी पढ़ें –

17 साल के लड़के ने माँ की मदद के लिए बनाई Lady Robot, करती है घर का सारा काम

12वीं पास शख्स ने देसी जुगाड़ से पैदा की बिजली, 18 साल की मेहनत के बाद गाँव को किया रोशन

Petrol Pump पर ग्राहकों की कट रही है जेब, जानें खुद को इस धोखाधड़ी से बचाने का तरीका

Diwali 2022 : तेल नहीं बल्कि पानी से जगमगाएगा दीया, भोपाल में पहली बार आया वाटर सेंसर दीया