इस परिवार में 72 लोग रहते हैं एक साथ, रोजाना लगता है 10 लीटर दूध और 1,200 रुपए की सब्जी

भारत हमेशा से संयुक्त परिवार (Joint Family) के चलन की वजह से दुनिया भर में मशहूर रहा है, जहाँ पूरे परिवार के लोग एक ही घर की छत के नीचे रहते हैं। हालांकि बीते कुछ सालों में संयुक्त परिवारों का चलन तेजी से कम होने लगा है, जिसकी वजह से आज के समय में मुश्किल से इस तरह का परिवार देखने को मिलता है।

ऐसे में महाराष्ट्र के सोलापुर जिले में रहने वाला एक परिवार इन दिनों खूब सुर्खियाँ बटौर रहा है, क्योंकि इस परिवार में कुल 72 सदस्य हैं और वह सभी एक ही घर में रहते हैं। इस परिवार में जब कोई नई बहु आती है, तो उसे घर के सभी सदस्यों से मिलने में ही हफ्ता भर का समय लग जाता है।

72 लोगों का संयुक्त परिवार

हम जिस परिवार की बात कर रहे हैं, वह मूल रूप से कर्नाटक से ताल्लुक रखता है। लेकिन 100 साल पहले दोईजोडे परिवार (Doijode family) के सदस्य महाराष्ट्र के सोलापुर जिले में आकर बस गए थे, जिसके बाद इस परिवार की लगभग 4 पीढ़ियों ने अपना जीवन यही व्यतीत किया।

दोईजोडे परिवार (Doijode family) में कुल 72 सदस्य हैं और वह सभी एक ही घर में रहते हैं, ऐमें में परिवार के सभी सदस्यों के लिए चाय बनाने के लिए रोजाना 10 लीटर दूध की जरूरत पड़ती है। इतना ही नहीं दोईजोडे परिवार को रोजाना सब्जी खरीदने के लिए 1, 200 रुपए खर्च करने पड़ते हैं, जबकि नॉनवेज की कीमत इससे 3 गुना ज्यादा होती है।

इस परिवार के लिए सालाना चावल, गेंहू और दाल के 40 से 50 बोरियाँ आती है, जिसके लिए पहले से ही थोक में ऑर्डर देना पड़ता है। दोईजोडे परिवार के लोग आपस में बिना किसी परेशानी के जीवन व्यतीत कर रहे हैं, हालांकि जब इस घर में नई दुल्हन आती है तो उसे माहौल को समझने और उसमें एडजस्ट होने में काफी लंबा वक्त लग जाता है।

दोईजोडे परिवार (Doijode family) में बच्चों की संख्या इतनी ज्यादा है कि उन्हें किसी दूसरे या बाहरी बच्चे के साथ खेलने की जरूरत नहीं होती है, जबकि इन लोगों को दोस्तों की कमी भी महसूस नहीं होती है। सोलापुर का यह संयुक्त परिवार सोशल मीडिया पर खूब सुर्खियाँ बटौर रहा है, जबकि कई लोग एक साथ रहने के लिए इस फैमिली की जमकर तारीफ कर रहे हैं।

इसे भी पढ़ें –