घरवालों को बिना बताए सौरभ गांगुली ने की थी कोर्ट मैरिज, मिलिए दादा की पत्नी, बेटी, भैया-भाभी और पूरे परिवार से

भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व बल्लेबाज सौरभ गांगुली (Sourav Ganguly) भले ही आज कमेंट्री करते हुए नजर आते हैं, लेकिन एक वक्त ऐसा भी था जब वह खेल के मैदान पर दूसरी टीम के छक्के छुड़ा दिया करते थे। खासतौर से पाकिस्तान के खिलाफ क्रिकेट मैच के दौरान सौरभ गांगुली की भिड़त होना तय था, जिसकी वजह से उन्हें गुस्सैल खिलाड़ी के रूप में भी जाना जाता है।

सौरभ गांगुली को भारतीय क्रिकेट टीम के दूसरे खिलाड़ी प्यार से दादा कहकर पुकारते हैं, क्योंकि बंगाली भाषा में दादा का मतलब बड़ा भाई होता है। ऐसे में खिलाड़ियो के साथ क्रिकेट फैंस भी सौरभ गांगुली को दादा के नाम से जानते हैं, जिनकी पर्सनल और प्रोफेशनल लाइफ काफी मजेदार रही है।

सौरभ गांगुली की पर्सनल लाइफ

सौरभ गांगुली (Sourav Ganguly) का जन्म 8 जुलाई 1972 को पश्चिम बंगाल के कोलकाता शहर में हुआ था, जिनके पिता का नाम चंडीदास गांगुली और माँ का नाम निरूपा गांगुली था। सौरभ गांगुली के पिता चंडीदास गांगुली कोलकाता के बड़े प्रिंट व्यापारी हुआ करते थे, जिसकी वजह से गांगुली परिवार की गिनती शहर के अमीर लोगों में की जाती थी।

Read Also: 7 एकड़ में फैला हुआ महेंद्र सिंह धोनी का लग्जरी फार्म हाउस, इनसाइड तस्वीरें आई सामने

यही वजह थी कि स्कूल के दिनों में सौरभ गांगुली को लोग महाराजा कहकर पुकारते थे, सौरभ गांगुली के एक बड़े भाई भी हैं जिनका नाम स्नेहाशीष गांगुली है। स्नेहाशीष गांगुली भी क्रिकेट खेलते थे, लेकिन उन्होंने क्रिकेट में करियर बनाने के बजाय अपने फैमिली बिजनेस को तबज्जु दी और अपने पिता के बाद उसे आगे बढ़ाया।

सौरभ गांगुली का क्रिकेट करियर

सौरभ गांगुली को बचपन से ही क्रिकेट खेलने का शौक था, लिहाजा उन्होंने इसकी प्रैक्टिस जारी रखी और साल 1990 में रणजी टूर्नामेंट के लिए पहली बार बतौर खिलाड़ी मैदान में उतरे। इसके बाद साल 1992 में सौरभ गांगुली ने वेस्ट इंडिज के खिलाफ वनडे इंटरनेशनल क्रिकेट खेला था, हालांकि उस मैच में दादा सिर्फ 3 रन बनाकर आउट हो गए थे।

ऐसे में सौरभ गांगुली का आत्मविश्वास कम हो गया था, जिसके बाद उन्होंने घरेलू क्रिकेट की तरफ वापसी कर ली। साल 1993 से लेकर 1995 तक सौरभ गांगुली ने घरेलू क्रिकेट खेला और उसमें अच्छा स्कोर बनाया, जिसके बाद साल 1996 में इंग्लैंड के खिलाफ खेले जाने मैच में सौरभ गांगुली का चुनाव किया गया था।

Read Also: किसी राजमहल से कम नहीं है क्रिकेट के भगवान सचिन तेंदुलकर का घर, देखिये घर के अंदर की शानदार तस्वीरें

हालांकि सौरभ गांगुली के क्रिकट करियर की शुरुआत साल 1997 में हुई थी, जब उन्होंने श्रीलंका के खिलाफ वनडे इंटरनेशल क्रिकेट में 113 रन की दमदार पारी खेली थी। इसके बाद सौरभ गांगुली ने सहारा कप में पाकिस्तान के खिलाफ बेहतरीन गेंदबाजी करते हुए 16 रन देकर 5 विकेट झटक लिये थे।

इस तरह सौरभ गांगुली का क्रिकेट करियर तेजी के साथ आगे बढ़ता रहा, जिसके बाद देखते ही देखते दादा की गिनती भारतीय क्रिकेट टीम के सबसे बेहतरीन खिलाड़ियों में की जाने लगी। हालांकि सौरभ गांगुली का स्वभाव थोड़ा आक्रामक था, लिहाजा क्रिकेट फील्ड पर वह अक्सर दूसरी टीम के खिलाड़ियों के साथ लड़ाई मोल ले लेते थे।

बचपन की दोस्त से की थी गुपचुप शादी

सौरभ गांगुली (Sourav Ganguly) के क्रिकेट करियर की तरह ही उनकी लव लाइफ भी काफी कमाल की रही है, क्योंकि दादा ने अपनी बचपन की दोस्त डोना (Dona Ganguly) से शादी की थी। दरअसल सौरभ गांगुली और डोना एक दूसरे के पड़ोसी हुआ करते थे, हालांकि उन दोनों के स्कूल अलग थे। लेकिन पड़ोसी होने के नाते उनका एक दूसरे के घर आना जाना लगा रहा था और वहीं से उनकी लव लाइफ की शुरुआत हो गई।

Read Also: अरबों के लग्जरी हाउस में पत्नी अनुष्का के साथ रहते हैं विराट कोहली, दिखता है समुद्र का खूबसूरत नजारा

साल 1996 में इंग्लैंड टूर पर जाने से पहले सौरभ गांगुली ने डोना को शादी के लिए प्रपोज कर दिया था और जब वह टूर से वापस आए, तो डोना ने उनका प्रपोजल स्वीकार कर लिया। इसके बाद सौरभ गांगुली और डोना ने 12 अगस्त 1996 को गुपचुप तरीके से कोर्ट मैरिज कर ली थी, जबकि उनके घरवालों की इस बात की कोई भनक नहीं थी।

सौरभ गांगुली और डोना ने लगभग 1 साल तक अपनी शादी की बात को छिपाए रखा, जिसके बाद साल 1997 में दोनों के परिवार वालों को उनकी कोर्ट मैरिज की बात पता चल गई थी। इसके बाद 21 फरवरी 1997 में सौरभ गांगुली और डोना की दोबारा से शादी करवाई गई, जिसमें सभी बंगाली रीति रिवाजों को पूरा किया गया था।

Read Also: ईशान किशन ने छोटी सी उम्र में कैसे रखा था क्रिकेट की दुनिया में कदम, जानिए उनके निजी जिंदगी और करियर के बारे में

क्लासिकल डांसर बनना चाहती है बेटी

ऐसे में शादी के 4 साल बाद 3 नंवबर 2001 को डोना ने एक बेटी को जन्म दिया, जिसका नाम सना गांगुली (Sana Ganguly) रखा गया था। जब सना 7 साल की थी, तो उन्होंने अपनी माँ से क्लासिकल डांस की ट्रेनिंग लेना शुरू कर दिया था। दरअसल डोना गांगुली एक क्लासिकल डांसर थी, जिन्होंने बंगाल समेत भारत के अलग-अलग क्लासिक डांस शोज़ में बेहतरीन प्रफोमेंस दी है।

फिलहाल सना गांगुली की उम्र 21 साल है और वह लंदन की ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी से उच्च शिक्षा प्राप्त कर रही हैं, लेकिन सना का सपना है कि वह अपनी माँ की तरह एक मशहूर क्लासिकल डांसर बने। सना गांगुली सोशल मीडिया पर काफी ज्यादा एक्टिव रहती हैं और अपने पापा के काफी क्लोज हैं, जो अक्सर अपनी फैमिली फोटोज़ शेयर करती रहती हैं।

Read Also: सारा तेंदुलकर या फिर सारा अली खान, आखिर किसे डेट कर रहे हैं शुभमन गिल