Toilet Day 2022: क्यों मनाया जाता है विश्व शौचालय दिवस, जानें इस दिन से जुड़ा इतिहास

Toilet Day 2022: आज के दौर में हर घर में टॉयलेट का इस्तेमाल किया जाता है, जो सुरक्षित होने के साथ-साथ कई तरह की बीमारियों से रक्षा करने में भी सहायक होता है। ऐसे में हर साल 19 नवंबर को विश्व शौचालय दिवस (Toilet Day) मनाया जाता है, ताकि आम लोगों को स्वस्छता के प्रति ज्यादा से ज्यादा प्रोत्साहित किया जा सके।

क्यों मनाया जाता है टॉयलेट डे?

विश्व शौचालय दिवस की शुरुआत 19 नवंबर 2001 में सिंगापुर के जैक सिम ने की थी, जिसके बाद साल 2013 में संयुक्त राष्ट्र संगठन ने आधिकारिक रूप से विश्व शौचालय दिवस को मनाए जाने का ऐलान किया था। इस तरह से सिंगापुर से शुरू हुए टॉयलेट डे को आज दुनिया के विभिन्न देशों में सेलिब्रेट किया जाता है।

शौचालय दिवस की शुरुआत करने का मकसद लोगों को टॉयलेट इस्तेमाल करने के फायदे बताना है, ताकि स्वास्थ्य के साथ-साथ स्वच्छता पर भी ध्यान दिया जा सके। विश्व भर में आज भी बहुत से देशों में लोग खुले में शौच जाते हैं, जिसकी वजह से खतरनाक बीमारियाँ फैलती हैं।

ऐसे में विश्व शौचालय दिवस के मौके पर आम नागरिकों को खुले में शौच न करने की सलाह दी जाती है, जबकि उन्हें इससे होने वाली तमाम बीमारियों के प्रति भी जागरूक किया जाता है। खासतौर से महिलाओं के लिए खुले में शौच करना बिल्कुल सुरक्षित नहीं होता है, जिसकी वजह से हर घर में शौचालय बनाने की मुहिम भी शुरू की गई है।

आपको बता दें कि खुले में शौच करने से हर साल सैकड़ों लोग बीमार पड़ते हैं, जबकि इससे जल और जमीन में पॉलीयूशन व गंदगी में बढ़ोतरी होती है। खुले में शौच जाने से हैजा, डायरिया और टाइफाइड जैसी बीमारियों का खतरा रहता है, जबकि इससे पानी की गंदगी भी बढ़ती है।

इसे भी पढ़ें – इको फ्रेंडली घर: मिट्टी से बने कटोरों का इस्तेमाल करके तैयार की छत, गर्मी में नहीं पड़ती है AC की जरूरत