बिहार में हो रही है दुनिया की सबसे महंगी सब्जी की खेती, कीमत 82 हजार रुपए प्रति किलो

आपने शायद ही कभी इतनी महंगी सब्जी के बारे में सुना होगा। वैसे तो बिहार ज्यादातर गरीबी, बेरोजगारी, पलायन इत्यादी के लिए प्रसिद्ध है, लेकिन बिहार ही वह जगह है जहाँ सोने जैसी महंगी सब्जी की खेती भी हो रही है। आपको यह सुनकर बहुत आश्चर्य होगा कि किसी सब्जी की कीमत 82 हज़ार रुपए प्रति किलो भी हो सकती है, जिसकी खेती बिहार के औरंगाबाद ज़िले में की जा रही है। यह दुनिया की सबसे महंगी सब्जी है।

बिहार के औरंगाबाद जिले के एक किसान द्वारा विश्व की सबसे महंगी सब्जी की खेती की शुरुआत की गई है। इस सब्ज़ी की कीमत 82 हज़ार रुपए प्रति किलो है, जिसका नाम हॉप शूट्स (Hop Shoots) है। जब उस किसान ने इस सब्जी की खेती की तो वहाँ के लोग यह बिल्कुल नहीं समझ पा रहे थे कि उसने किस चीज की खेती की है, यह सब्जी बिकेगी कहाँ और इसे खरीदेगा कौन? और तो और इस सब्जी को पकाएगा और खाएगा कौन? सारी बातों को लेकर वहाँ के लोग काफ़ी उलझन में थे।

hop-shoots-farming

इंटरनेशनल मार्केट में 1 किलो Hop Shoots सब्जी की कीमत 1 हजार यूरो है

इंटरनेशनल मार्केट में हॉप शूट्स (Hop Shoots) सब्जी के कीमत की अगर बात की जाए तो 1 किलो हॉप शूट्स सब्जी की कीमत 1 हजार यूरो है यानी 82 हजार रुपए। यह एक ऐसी सब्जी है जिसे आप बाज़ार में किसी भी दुकान पर नहीं देख सकते। अगर आप देखना चाहते हैं कि इसकी खेती कैसे होती है या यह सब्जी दिखती कैसी है तो इसके लिए आपको औरंगाबाद के नवीन नगर प्रखंड के करमडीह गाँव स्थित अमरेश कुमार सिंह (Amresh Kumar Singh) के खेतों तक जाना होगा।

5 कट्ठा जमीन पर इसकी ट्रायल खेती की गई है

सब्जी की खेती करने वाले किसान अमरेश सिंह (Amresh Kumar Singh) ने बताया कि भारतीय सब्जी अनुसंधान वाराणसी के कृषि वैज्ञानिक डॉक्टर लाल की देखरेख में ही 5 कट्ठा ज़मीन पर इसकी ट्रायल खेती की गई है। इस सब्जी का पौधा 2 महीना पहले लगाया गया था जो धीरे-धीरे अब बड़ा हो रहा है। इसके साथ-साथ अमरेश के मन में भी इस खेती को लेकर काफ़ी उत्सुकता है।

इसका इस्तेमाल द’वा बनाने में किया जाता है

जानकारी के लिए आपको बता दें तो हॉप शूट्स (Hop Shoots) सब्जी का इस्तेमाल ज्यादातर द’वा को बनाने के लिए किया जाता है। डॉक्टर की माने तो टी’वी के इला’ज़ में इस सब्जी से बनी दवा काफ़ी रामबाण सिद्ध होती है। इस सब्जी के फूलों को हॉप कोन्स कहा जाता है, जिसका बीयर बनाने में इस्तेमाल किया जाता है। तो वही इसके टहनियों का इस्तेमाल खाने में किया जाता है। इसके अलावा उसका अचार भी बनाया जाता है, जो बाज़ारों में काफ़ी महंगा मिलता है।

hop-shoots-farming

Hop Shoots की खेती ज्यादातर यूरोपीय देशों में की जाती है

हॉप शूट्स (Hop Shoots) सब्जी की ज्यादातर खेती यूरोपीय देशों में की जाती है। ब्रिटेन और जर्मनी इत्यादि के लोग इसे बहुत ज़्यादा पसंद करते हैं। इस सब्जी की खेती के लिए वसंत ऋतु अच्छा माना जाता है। सब्जी अनुसंधान संस्थान जो कि वाराणसी में स्थित है वहाँ इसकी खेती पर कृषि वैज्ञानिकों द्वारा काफ़ी रिसर्च किया जा रहा है।

किसान अमरेश (Amresh Kumar Singh) ने बताया कि उन्होंने Hop Shoots की खेती करने के लिए उन लोगों से काफ़ी अनुरोध किया था, जिसे वहाँ के लोगों ने स्वीकार कर लिया था। अब अगर अमरेश इस खेती में पूरी तरह सफल हो जाते हैं तो वहाँ के अन्य किसानों की भी ज़िन्दगी भी पूरी तरह इस खेती के द्वारा बदल सकती है। इस बात की उम्मीद भी है कि वह इसकी खेती करने में ज़रूर सफल होंगे, जिससे विदेशों के साथ-साथ भारत में भी ज़्यादा से ज़्यादा इसकी खेती की जा सके।