UPPCS 2021 Final Result : बेटी कर रही थी 10वीं की तैयारी तो माँ ने क्लियर किया पीसीएस एग्जाम, जानें सिंगल मदर पूनम चौधरी की कहानी

UPPCS 2021 Final Result : आज के आधुनिक दौर में भी भारत जैसे देश में सिंगल मदर होना किसी चुनौती से कम नहीं है, जहाँ एक महिला को सामाजिक ढांचे में खुद को व्यवस्थित करते हुए अपने बच्चों की परवरिश करनी पड़ती है। ऐसे में सिंगल मदर का रोल निभाने वाली महिलाओं को घर के साथ-साथ ऑफिस भी संभालना पड़ता है, जो उनके लिए काफी मुश्किल होता है।

ऐसे में मेरठ (Meerut) की रहने वाली सिंगल मदर पूनम चौधरी (Poonam chaudhary) ने न सिर्फ अपनी बेटी की अच्छी परवरिश की, बल्कि खुद के पैरों पर खड़ा होने के लिए यूपी पीसीएस परीक्षा को पास करने में सफल रही हैं। पूनम चौधरी के लिए इस एग्जाम को पास करना बिल्कुल भी आसान नहीं था, लेकिन उन्होंने हालातों के आगे घुटने नहीं टेके।

Poonam chaudhary

कौन हैं पूनम चौधरी?

हाल ही उत्तर प्रदेश की पीसीएस परीक्षा का रिजल्ट (UPPCS 2021 Final Result) घोषित किया गया है, जिसमें कुल 627 अभियार्थियों का चुनाव हुआ है। इन सभी अभियार्थियों को यूपी लोक सेवा आयोग के विभिन्न पदों पर नियुक्त किया जाएगा, जिसमें मेरठ की रहने वाले पूनम चौधरी (Poonam chaudhary) का नाम भी शामिल है।

पूनम चौधरी मूल रूप से उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर की रहने वाली हैं, जो शादी के बाद अपने पति के साथ मेरठ शिफ्ट हो गई थी। लेकिन पूनम की शादी ज्यादा लंबे समय तक नहीं टिक पाई, जिसकी वजह से उन्होंने साल 2015 में अपने पति से तलाक ले लिया था।

पूनम चौधरी की रुशाली नाम की एक बेटी भी है, जो फिलहाल एक स्टूडेंट हैं। पति से अलग होने के बाद पूनम ने अपनी बेटी की परवरिश अकेले की थी, जिसके लिए उन्हें स्कूल में बतौर टीचर नौकरी की थी। पूनम चौधरी साल 2012 में महादेव गवर्मेंट इंटर कॉलेज में बच्चों को पढ़ाती थी, फिर पति से तलाक होने के बाद वह बुलंदशहर चली गई।

बुलंदशहर में पूनम चौधरी ने साल 2019 से लेकर 2021 के बीच राजकीय इंटर कॉलेज में बच्चों को मैथ्स और साइंस जैसे विषय पढ़ाए थे, लेकिन वह जानती थी कि टीचर की नौकरी से वह अपनी बेटी की परवरिश नहीं कर सकती हैं। लिहाजा उन्होंने यूपी पीसीएस परीक्षा की तैयारी करना शुरू कर दिया था।

प्रिसिंपल का पद संभालेंगी पूनम चौधरी

ऐसे में जहाँ एक तरफ पूनम की बेटी रुशाली 10वीं कक्षा की बोर्ड परीक्षा की तैयारी कर रही थी, वहीं पूनम ने पीसीएस परीक्षा के लिए मेहनत करना शुरू कर दिया था। इस तरह पूनम ने 3 बार पीसीएस परीक्षा दी और उसमें पास भी हो गई, लेकिन हर बार वह इंटरव्यू या मेन्स में अटक जाती थी।

लेकिन चौथी बार पूनम चौधरी की मेहनत रंग लाई और उन्होंने मेन्स व इंटरव्यू जैसे सभी पड़ावों को पार कर लिया, जिसके तहत अब उन्हें राजकीय इंटर कॉलेज में प्रिसिंपल का पद संभालने के लिए दिया जाएगा। पूनम चौधरी अपनी सफलता का पूरा श्रेय अपनी बेटी को देती हैं, जिसने उन्हें आगे बढ़ने और बेहतर करियर बनाने के लिए प्रोत्साहित किया था।

इसे भी पढ़ें –

UPPCS Results : UPSC परीक्षा में 4 बार फेल हुए थे अतुल सिंह, अब PCS परीक्षा में किया टॉप

मुकेश अंबानी ने तोड़ा अपना ही रिकॉर्ड, दुबई में खरीदा 1,353 करोड़ रुपए की कीमत वाला लग्जरी घर

केरल की पहली आदिवासी एयर होस्टेस बनी गोपिका गोविंद, 12 साल की उम्र में देखा था हवा में उड़ने का सपना

फीस भरने के लिए नहीं थे पैसे, खेतों में मजदूरी करके बच्चों को पढ़ाया और आज बेटा बना गया है SDM