टेक्नोलॉजी और साफ-सफाई के अलावा और भी कई बातों में नंबर 1 है जापान, जिन्हें जानने के बाद यहां बसने का मन करेगा

0
11

Life of Japan – अगर दुनिया के सबसे एडवांस और समृद्ध देशों की बात की जाए, तो इस लिस्ट में जापान का नाम सबसे ऊपर आएगा। जापान आज इतनी तरक्की कर चुका है कि इस देश को टेक्नोपान के नाम से जाना जाने लगा है।

जापान के लोग न सिर्फ एडवांस लाइफ जीते हैं, बल्कि अन्य देश के लोगों के मुकाबले ज्यादा जागरूक और खुशहाल भी हैं। ऐसे में आज हम आपको जापान के बारे में कुछ ऐसी बातें बताने जा रहे हैं, जिन्हें जानने के बाद आप भी मान जाएंगे कि यह देश 2020 नहीं बल्कि 2050 में जी रहा है।

गर्भवती महिला को दिया जाता है पौष्टिक भोजन

जापान में जब कोई महिला गर्भवती होती है, तो उसका खास ख्याल रखा जाता है। इतना ही नहीं यहाँ के सरकारी अस्पतालों में बच्चे के जन्म देने के बाद महिलाओं को बहुत ही पौष्टिक भोजन परोसा जाता है।

जापान की सरकार हेल्थ सेक्टर में अच्छा खासा पैसा खर्च करती है, ताकि उनके देश के नागरिक स्वस्थ रहे। यही वजह है कि जापान की महिलाएँ बच्चे को जन्म के बाद हेल्दी भोजन खाकर जल्दी स्वस्थ हो जाती है।

हड़ताल का अनोखा तरीका

भारत समेत दुनिया भर के दूसरे देशों में जब हड़ताल की जाती है, तो मजदूर सड़कों पर बैठ जाते हैं ताकि रोजमर्रा के काम नियमित रूप से न चल पाए। लेकिन जब जापान के बस ड्राइवर हड़ताल करते हैं, तो दुनिया भर की मीडिया का ध्यान अपनी तरफ खींच लेते हैं।

जापान में जब सरकारी परिवहन निगम के ड्राइवर हड़ताल करते हैं, तो वह चक्का जाम नहीं करते हैं। बल्कि इस देश के ड्राइवर नियमित रूप से बस चलाते हैं, लेकिन यात्रियों से किराया नहीं लेते हैं और उन्हें मुफ्त सफर मुहैया करवाते हैं।

जापान के ड्राइवर समय की कीमत अच्छी तरह से जानते हैं, इसलिए वह अपने विरोध प्रदर्शन के चलते दूसरे लोगों को परेशान नहीं करना चाहते हैं। यात्रियों से किराया न लेकर बस ड्राइवर कंपनी के प्रति विरोध दर्शाते हैं, जबकि हर व्यक्ति को समय पर ऑफिस पहुँचने में मदद भी करते हैं।

शांति से दौड़ती है बुलेट ट्रेन

यह तो हम सभी जानते हैं कि जापान के पास बुलेट ट्रेन की टेक्नोलॉजी है, जिसकी मदद से कई किलोमीटर की दूरी चंद मिनटों में तय की जा सकती है। लेकिन क्या आप यह जानते हैं कि बुलेट ट्रेन जितनी तेज रफ्तार से दौड़ती है, उतनी ही शांत भी होती है।

बुलेट ट्रेन अपने सफर के दौरान जरा-सी भी आवाज नहीं करती है, जिसकी वजह से इसमें सफर कर रहे यात्रियों को असीम शांति का एहसास होता है। जापान की यह ट्रेन कम से कम ध्वनि प्रदूषण फैलाने का संदेश देती है।

स्कूलों में साफ सफाई अभियान

भारत समेत दुनिया भर के देशों में स्कूल की साफ सफाई के लिए कर्मचारी रखे जाते हैं, लेकिन जापान के स्कूलों में इस पद पर कोई व्यक्ति कार्यरत नहीं होता है। दरअसल जापान के स्कूलों में साफ सफाई का काम टीचर और बच्चे आपस में मिलकर पूरा करते हैं।

इस नियम को बनाए जाने के पीछे मुख्य वजह यह है कि स्कूली बच्चे अपने शरीर की साफ सफाई के साथ-साथ क्लास रूम और स्कूल की सफाई का भी ध्यान रखें। ऐसे में बच्चे स्कूल में ज्यादा गंदगी नहीं फैलाते हैं और सफाई करने का तरीका भी सीख जाते हैं।

मेनहोल्स के ऊपर खूबसूरत डिजाइन

किसी भी देश में सड़क पर मौजूद मेनहोल्स या सीवर के ढक्कनों पर ज्यादा ध्यान नहीं दिया जाता है, क्योंकि उन्हें अंडरग्राउंड नालियों को ढकने के मकसद से तैयार किया जाता है।

लेकिन अगर आप जापान जाते हैं, तो आपको वहाँ सड़कों पर पीछे मेनहोल के ढक्कनों पर खूबसूरत डिजाइन देखने को मिलेंगे। यह डिजाइन मेनहोल्स न सिर्फ सुंदर बनाते हैं, बल्कि सड़कों को आकर्षक बनाने में अहम भूमिका निभाते हैं।

पानी रिसाइकल का एडवांस तरीका

कौन कहता है कि पानी को रिसाइकल नहीं किया जा सकता है, अगर आप जापान में हैं तो इस देश के आइडिया देखकर आप जरूर चौंक जाएंगे। इस देश में बहुत ही एडवांस टॉयलेट्स इंस्टॉल किए गए हैं, जो पानी को रिसाइकल करने का काम करते हैं।

दरअसल जापान में मौजूद टॉयलेट के फ्लश बॉक्स के ऊपर एक छोटा-सा वॉश बेसिन लगा दिया जाता है, ऐसे में जब कोई व्यक्ति हाथ धोता है तो वह पानी वॉश बेसिन के जरिए फ्लश टैंक में जमा हो जाता है। फिर उस पानी को टॉयलेट इस्तेमाल करने के बाद फ्लश के रूप में दोबारा यूज किया जाता है।

स्टेडियम की सफाई

किसी देश में जब कोई मैच होता है, तो वहाँ के नागरिक स्टेडियम में जाकर खेल का लुफ्त उठाते हैं। इस दौरान वह खाने पीने की चीजों से स्टेडियम को गंदा कर देते हैं, जिसे बाद में सफाई कर्मचारियों द्वारा साफ किया जाता है।

लेकिन जापान के नागरिक अपने देश को साफ रखने के प्रति बहुत ही जिम्मेदार होते हैं, इसलिए यहाँ किसी भी मैच के बाद स्टेडियम की साफ सफाई करने का जिम्मा आम नागरिक खुद उठाते हैं। FIFIA WORLD CUP 2014 के दौरान भी जापानियों ने मैच खत्म होने के बाद पूरे स्टेडियम की सफाई की थी।

नहीं किया जाता नियम का उल्लंघन

जापान एक ऐसा देश है, जहाँ नियमों का पालन बहुत ही जिम्मेदारी के साथ किया जाता है। इस देश में कोई भी नागरिक पब्लिक प्लेस में आते जाते समय नियमों का उल्लंघन नहीं करता है, फिर चाहे उसे ऑफिस या घर पहुँचने में कितनी ही देर क्यों न हो रही हो।

आधुनिक ट्रेन और सीटें

जापान में टेक्नोलॉजी अपने चरम पर होती है, जहाँ बुलेट ट्रेन से लेकर आम ट्रेनों में यात्रियों को कई सुविधाएँ दी जाती हैं। जापान में चलने वाली ट्रेनों में चारों दिशाओं में घूमने वाली सीट की सुविधा होती है, ताकि यात्री अपनी सुविधा के हिसाब से सीट एडजस्ट करके सफर कर सकें।

Umbrella Lockers का इस्तेमाल

जापान के लोग अपनी चीजों को लेकर काफी जागरूक होते हैं, इसलिए वह जिस भी चीज का इस्तेमाल करते हैं उसे सुरक्षित रखने के लिए कोई न कोई तरीका ढूँढ लेते हैं। इस देश में Umbrella Lockers का इस्तेमाल किया जाता है, ताकि किसी भी व्यक्ति का छाता गुम न हो।

जापान में हर ऑफिस, जनरल स्टोर, अपार्टमेंट और मॉल में Umbrella Lockers की सुविधा दी जाती है, जहाँ आने वाले नागरिक अपने छाते को लॉक करके आराम से घूम सकते हैं और घर वापसी के दौरान लॉकर से छाता ले जा सकते हैं।

गलती पर माफी मांगने की सीख

जापान के लोग जितने आधुनिक है, उससे कई ज्यादा पारंपरिक और रिश्तों की कदर करने वाले भी हैं। इसलिए इस देश में बच्चों को बचपन से ही अपनी गलती स्वीकार करने और उसके लिए माफी मांगने की सीख दी जाती है।

जापान में जब किसी व्यक्ति से गलती हो जाती है या अनजाने में किसी का नुकसान हो जाता है, तो वह व्यक्ति माफी मांगने के साथ-साथ नुकसान के पूरे पैसे भी भरता है। ताकि उसकी गलती की वजह से किसी और को तकलीफ या परेशानी न झेलनी पड़ी।

पब्लिक टॉयलेट्स में बेबी सीट्स

आमतौर पर पब्लिक टॉयलेट को इस तरह से डिजाइन किया जाता है कि लोग वहाँ ज्यादा समय न बिता सके, लेकिन इस मामले में जापान अलग सोच रखता है। इस देश में पब्लिक टॉयलेट की दीवार पर बेबी सीट्स इंस्टॉल की जाती है, ताकि उसमें छोटे से बच्चे को आराम से बैठाया जा सके।

इन सीट्स को बनाने का मुख्य कारण यह है कि जब कोई महिला अपने बच्चे के साथ बाहर जाए, तो उसे पब्लिक टॉयलेट इस्तेमाल करने में किसी प्रकार की दिक्कत न हो। ऐसे में उस सीट पर बच्चे को बैठाकर महिलाएँ आसानी से टॉयलेट यूज कर सकती हैं।

एडवांस टॉयलेट सिस्टम

जापान में हर 1 किलोमीटर की दूरी पर कम से कम 3 पब्लिक टॉयलेट होते हैं, ताकि लोगों को घर के बाहर भी आसानी से फ्रेश होने की सुविधा मिल सके। ऐसे में इस देश के लोग बहुत ही एडवांस टॉयलेट सिस्टम का इस्तेमाल करते हैं, जिसके जरिए उन्हें आसानी से पता चल जाता है कि टॉयलेट फ्री है या नहीं।

दरअसल जापान में टॉयलेट्स के बाहर एक बड़ी-सी स्क्रीन मौजूद होती है, जो टेक्निकल तरीके से टॉयलेट के दरवाजे से जुड़ी होती है। इस स्क्रीन को देखकर यह पता लगाया जा सकता है कि टॉयलेट इस्तेमाल करने के लिए खाली है या नहीं, जिससे पब्लिक टॉयलेट्स को यूज करना आसान हो जाता है।

हर पल कुछ नया सीखते हैं यहां के बच्चे

जापान की सड़कों से लेकर ट्रेनों में स्कूली बच्चों को शिक्षित और जागरूक करने के लिए कई तरह की क्रिएटिव चीजें मौजूद होती हैं, जिनकी मदद से बच्चे खेलते-खेलते काफी कुछ सीख जाते हैं। इस तस्वीर को देखकर आप समझ सकते हैं कि जापान में बच्चे ट्रेन में सफर करने के दौरान बिल्कुल भी बोर नहीं होते होंगे।

इंसान की जान को दी जाती है अहमियत

जापान में लोग भले ही बहुत बिजी रहते हों, लेकिन यहाँ हर व्यक्ति की जिंदगी को अहमियत दी जाती है। जापान में एक बार एक महिला ट्रेन और प्लेटफॉर्म के बीच फंस गई थी, ऐसे में उस महिला को बचाने के लिए ट्रेन में मौजूद सभी यात्री नीचे उतर गए और एक साथ मिलकर ट्रेन को धक्का दिया।

इस तरह खाली ट्रेन मानव बल की वजह से अपनी जगह से हिल गई और फिर उस महिला को प्लेटफॉर्म के बीच से बाहर निकाला गया, यह घटना उदाहरण है कि जापानी बिजी होने के बावजूद भी एक दूसरे के प्रति संवेदनशील होते हैं।

नालियों में नजर आती है तैरती हुई मछलियाँ

जापान की सड़कों की तरह यहाँ की नालियाँ भी काफी साफ रहती हैं, जिसकी वजह से उनमें आपको रंगीन मछलियाँ तैरते हुए आसानी से दिखाई दे जाएंगी। दरअसल जापान की नालियों में गंदगी नहीं होती है, जिसकी वजह से उन्हें आकर्षक बनाने के लिए पानी में मछलियों को छोड़ दिया जाता है।

कैन पर ब्रेल में लिखा जाता है नाम

जापान में हर वर्ग के व्यक्ति का ख्याल रखा जाता है, इसलिए यहाँ बिकने वाली सॉफ्ट ड्रिंक या बियर की कैन के टॉप पर ब्रेल भाषा में उस प्रोडक्ट का नाम लिखा जाता है। ऐसा इसलिए किया जाता है, ताकि नेत्रहीन व्यक्ति उन शब्दों को छूकर प्रोडक्ट का नाम पढ़ सकें।

सफर के दौरान रिलैक्स रहने का तरीका

जापान की आधुनिक ट्रेनों में यात्रियों की सुविधा का खास ख्याल रखा जाता है, ताकि वह लंबे सफर से बोर न हो जाए। ऐसे में यहाँ चलने वाली Toreiyu Tsubasa Train में Footbath बने होते हें, ताकि लोग सफर के दौरान पानी में पैर डूबाकर रिलैक्स महसूस कर सकें।

सब्जियों के लिए फ्री फ्रिज

अगर आप जापान में मौजूद शॉपिंग सेंटर से सब्जी या फल खरीदते हैं, तो उन्हें खराब होने से बचाने के लिए शॉपिंग सेंटर द्वारा फ्री फ्रिज की सुविधा दी जाती है। ऐसे में लोग सब्जी खरीद कर उसे फ्रिज में रख कर घर चले जाते हैं और जब जरूरत होती है, तब फ्रिज से सब्जी निकला कर उसका इस्तेमाल कर लेते हैं।

नागरिक सर्वे का नया तरीका

जापान में जब नागरिकों की गिनती के लिए सर्वे किया जाता है, तो इसके लिए एक बेहतरीन तरीका अपनाया जाता है। इस देश में पब्लिक प्लेस में एक बोर्ड लगा दिया जाता है, जिसमें विभिन्न देशों के नाम लिखे होते हैं। फिर वहाँ मौजूद नागरिकों को अपने देश के आगे एक बिंदी लगानी होती है, जिससे बिना किसी से सवाल पूछे सर्वे पूरा हो जाता है।

अनगिनत जेबरा क्रॉसिंग

जापान के लोग फिट रहने के लिए गाड़ियों से ज्यादा साइकिल चलाना और पैदल चलना ज्यादा पसंद करते हैं, जिसकी वजह से इस देश में मौजूद हर सड़क पर जेबरा क्रॉसिंग मौजूद होती है। यहाँ आपको चौराहे पर ही 4 अलग-अलग क्रॉसिंग देखने को मिल जाएगी, जबकि हर सड़क पर गाड़ियों से ज्यादा पैदल यात्री मौजूद होंगे।

खाने को लेकर नहीं होती है कोई गड़बड़

जापान में किसी भी रेस्टोरेंट या फूड आउटलेट पर लगी तस्वीर के मुताबिक ही ग्राहक को खाना सर्व किया जाता है, जिससे कंपनी और आम नागरिकों के बीच सम्बंध अच्छे बने रहते हैं। जापान में तस्वीर और सर्व किए जाने वाले खाने के बीच बिल्कुल भी फर्क नहीं होता है, क्योंकि यहाँ के लोग ग्राहक को धोखा देने वाली बात पर भरोसा नहीं करते हैं।

लिफ्ट में एमरजेंसी टॉयलेट सीट

जापान में ऑफिस और बहुमंजिला इमारतों की लिफ्ट में एक टॉयलेट सीट मौजूद होती है, जिसे आपातकालीन स्थिति में इस्तेमाल किया जा सकता है। यह सीट इसलिए बनाई जाती है, ताकि अगर कोई व्यक्ति लिफ्ट के अंदर फंस जाए तो वह टॉयलेट सीट यूज कर सके।

डिस्प्ले पर लगाया जाता है नकली फूड

जापान के रेस्टोरेंट या फूड स्टॉल्स की तरफ आम लोगों का ध्यान खींचने के लिए डिस्प्ले पर असल फूड की नकल लगाई जाती है, जो देखने में बिल्कुल असली लगता है। इस डिस्प्ले को देखकर लोग खाना खाने के लिए आकर्षित हो जाते हैं।

हर किसी के पास होती है पार्किंग

जापान में भले ही लोग कार का इस्तेमाल करना ज्यादा पसंद नहीं करते हैं, लेकिन इस देश में जिस किसी के पास भी कार होती है उसके पास पर्मानेंट पार्किंग होना भी अनिवार्य है। यहां किसी दूसरे व्यक्ति की जगह पर अपनी कार को पार्क करना नियमों का उल्लंघन माना जाता है।

एयरपोर्ट पर कलर सिस्टम

जापान में एयरपोर्ट पर नागरिकों के लगेज को कलर के हिसाब से अलग अलग रखा जाता है, ताकि उन्हें एक बेल्ट में रखना आसान हो। इस तरह कलर के हिसाब से रखे गए लगेज को प्लेन में रखना और वापस उतारना आसान हो जाता है।

Bedside Lamp का इस्तेमाल

जापान में हर व्यक्ति की जरूरत और सहूलियत का ध्यान रखा जाता है, जिसकी वजह से यहां Bedside Lamp का चलन काफी ज्यादा है। इस लैंप की खासियत है कि इसे सुविधा के अनुसार आधा या पूरा ऑन व ऑफ किया जा सकता है। Bedside Lamp का इस्तेमाल एक कमरे में रह रहे दो लोग कर सकते हैं, जिसमें एक इंसान सोते वक्त उसे आधा बंद कर सकता है जबकि दूसरा रात को जागते हुए भी लैंप को आधा जला कर अपना काम कर सकता है।

असुविधा होने पर मांगते हैं सार्वजनिक माफी

जापान में सिर्फ निजी तौर पर ही नहीं, बल्कि सार्वजनिक रूप से भी गलती के लिए माफी मांगने का चलन है। इस देश में ट्रेन के 2 मिनट लेट होने पर रेलवे प्रशासन द्वारा सार्वजनिक माफी मांगी जाती है, जबकि होटल में मात्र 1 मिनट के लिए इंटरनेट बंद होने पर सार्वजनिक माफी नामा लिखा जाता है।

WIPE पर भी लिखा जाता है संदेश

जापान में नागरिकों को जागरूक करने के लिए स्मार्टफोन के वाइपर पर भी संदेश लिखा जाता है और उसे इस्तेमाल करने का तरीका बताया जाता है, ताकि जाने अनजाने किसी से कोई गलती न हो।

कभी लाइन नहीं तोड़ते हैं जापानी

जापान के लोग नियमों का पालन करने लिए कुछ भी कर सकते हैं, इस देश में लाइन कितनी ही लंबी क्यों न हो उसे गलती से भी नहीं तोड़ा जाता है। यही वजह है कि जापान में पब्लिक प्लेस पर सीढ़िया चढ़ने और उतरने में कोई असुविधा नहीं होती है।

मेकअप बचाने के लिए फेस कवर की सुविधा

जापान के शॉपिंग मॉल या सेंटर में चेंजिंग रूम में खास तरह के फेस कवर रखे जाते हैं, ताकि कपड़े बदलते वक्त महिलाएं अपने मेकअप को सुरक्षित रख सके। इसके साथ ही चेंजिंग रूम में उन चीजों को इस्तेमाल करने का तरीका भी लिखा होता है, ताकि महिलाओं को किसी तरह की असुविधा का सामना न करना पड़े।

वेंडिंग मशीन में मिलता है फ्रेश फूड

जापान में हर काम टेक्नोलॉजी की मदद से पूरा किया जाता है, इसलिए इस देश में वेंडिंग मशीन का इस्तेमाल सबसे ज्यादा किया जाता है। इन वेंडिंग मशीन में हमेशा फ्रेश फूड मिलता है, ताकि ग्राहकों की सेहत खराब न हो।

यात्रियों को अलविदा कहने का चलन

जापान में जब कोई यात्री प्लेन से सफर करता है, तो एयरपोर्ट और रन-वे पर काम करने वाले कर्मचारी यात्रियों को अलविदा कहते हैं। वह रन-वे पर खड़े होकर हाथ हिलाते हुए प्लेन को बाय बोलते हैं, ताकि लोगों की यात्री सुखद और सुरक्षित हो।

इन छोटी छोटी बातों को जानने के बाद आप भी मान ही गए होंगे कि जापान एक कमाल का आधुनिक देश है, जो टेक्नोलॉजी के साथ साथ वहां रहने वाले प्रत्येक नागरिक की सुविधा का ख्याल रखता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here