जानिए उत्तराखंड के इन 7 ऑफ-बीट डेस्टिनेशंस के बारे में और सैर कीजिए इन प्राकृतिक शहरों में

हम चाहे कितने भी ट्रैवलिंग के शौकीन हो लेकिन बहुत सारे जगहों के बारे में हमें नहीं पता होता है और हम वहाँ जाकर भी उस जगहों पर नहीं घूम पाते हैं। लेकिन ट्रैवलिंग का एक सबसे बड़ा फायदा होता है कि आपको उस जगह को देखने के साथ-साथ वहाँ के इतिहास के बारे में भी जानकारी होती है।

आज हम आपको उत्तराखंड के ऐसे 7 जगहों के बारे में बताने जा रहे हैं जहाँ की प्राकृतिक सुंदरता आपको अपनी ओर खींच लेगी। यह सातों जगह बिल्कुल ही भीड़ भाड़ और प्रदूषण से मुक्त है। इसलिए आप भी नए साल में इन जगहों पर जाने की योजना बना सकते हैं और अभी से ही इसकी तैयारियाँ शुरू कर सकते हैं और उनकी यादों को अपने कैमरे में क़ैद भी कर सकते हैं।

तो आइए आपको ले चलते हैं उत्तराखंड (Uttarakhand) के कुछ ऑफ़-बीट डेस्टिनेशंस पर:-

1. लोहाघाट (Lohaghat)

यह जगह लोहावती नदी के किनारे स्थित है और चंपावत जिले के मुख्यालय से लगभग 14 किलोमीटर दूर। यह जगह बहुत सारी छोटी-छोटी पहाड़ियों से घिरे होने के साथ-साथ कई ऐतिहासिक और पौराणिक दृष्टि से भी काफ़ी महत्त्वपूर्ण है। यह जगह गर्मी के मौसम में बुरांश के फूलों से भरा रहता है।

2. मनुस्यारी (Munsyari)

यह जगह हिमालय की गोद में स्थित है, जो पंचोली चोटियों से गिरा और सूर्य की रोशनी से सराबोर रहता है। यही कारण है कि यह अपनी प्राकृतिक सुंदरता से सबको ख़ुद की ओर आकर्षित कर लेता है। यह जगह ट्रैकिंग करने वालों की पसंदीदा जगह है। यहाँ से आप कई जगहों तक आसानी से ट्रैक कर सकते हैं, जैसे खलिया टॉप, ग्लेशियर, नंदा देवी मंदिर, चिपलकोर्ट बुग्याल इत्यादि।

3. चोपता (Chopta)

यह सदाबहार जंगल और मैदानी क्षेत्रों वाला छोटा-सा जगह है जो उत्तराखंड के केदारनाथ वन्य जीव अभ्यारण का एक हिस्सा है। यह ट्रेकिंग करके तुंगनाथ जाने वाले लोगों के लिए बेस भी है। यहाँ से लोग ट्रैकिंग करते हुए पंच केदार मंदिर से चंद्रशिला शिखर तक जा सकते हैं।

4. कौसानी (Kausani)

यह जगह उत्तराखंड के अल्मोड़ा जिले से 15 किलोमीटर दूर बागेश्वर जिले में है। यहाँ से आप विशाल पर्वत हिमालय के अलावा नंदा कोट, त्रिशूल और नंदा देवी पर्वत के बेहतरीन नज़ारे को देखने का आनंद उठा सकते हैं। चीन के घने पेड़ों और पहाड़ी की चोटी पर बसे हुए इस जगह से आप गरुड़ सोमेश्वर और बैजनाथ कत्यूरी की मनमोहक घाटियों को भी देखने का आनंद उठा सकते हैं। यह पूरी तरह से एक पर्वतीय शहर है।

5. खिर्सू (Khirsu)

एक बहुत ही शांत जगह खिर्सू पौड़ी-गढ़वाल में स्थित है जो पीडी से सिर्फ़ 19 km की दूरी पर है। इस शांत वातावरण में हमेशा पंछियों की चहचहाहट गूंजती रहती है। यहाँ कई तरह के पेड़ों के बगीचे भी हैं जैसे ओक, देवदार और सेब इत्यादि। इस जगह पर घूमकर आप लुत्फ़ उठा सकते हैं।

6. पंगुत (Pangut)

यह नैनीताल का एक छोटा-सा गाँव है, जो नैना पीके रेंज के घने जंगल के बीच कुमाऊँ में स्थित है। जो लोग पक्षी प्रेमी है वह इस जगह पर जाकर पक्षियों का आनंद उठा सकते हैं क्योंकि यह जगह पक्षी प्रेमियों के लिए स्वर्ग जैसा है। यह जगह करीब 150 से भी अधिक पक्षियों के प्रजातियाँ का निवास स्थान है। यहाँ से आप स्नो व्यू प्वाइंट और किलबरी की ओर भी जा सकते हैं और वहाँ से पक्षियों को देखने का आनंद उठा सकते हैं। इस गाँव की दूरी नैनीताल से लगभग 13 किलोमीटर है।

7. माणा (Mana)

उत्तराखंड के चमोली जिले का यह गाँव ऑफ-बीट डेस्टिनेशंस सबसे दूर है। यह इस क्षेत्र का सबसे आखिरी गाँव है। इस जगह के दूसरी ओर चीन है। इस गाँव के कई धार्मिक महत्त्व भी हैं। यह कई महीनों तक बाक़ी जगह से कटा रहता है। यहाँ के लोगों का ऐसा भी मानना है कि यह वही जगह है जहाँ से पांडवों ने स्वर्ग की यात्रा शुरू की थी। यहाँ के जो प्राकृतिक दृश्य हैं जैसे झरने और पहाड़ वह सभी का ध्यान अपनी ओर खींच लेते हैं।

आज हमने आपको बताया सात ऐसे ऑफ़-बीट डेस्टिनेशंस के बारे में जहाँ जाकर आप भी बहुत सारे खूबसूरत यादों को संजो सकते हैं।