Homeन्यूज़बिहार के सीएम नीतीश कुमार ने लागू किया शराबबंदी का नया नियम,...

बिहार के सीएम नीतीश कुमार ने लागू किया शराबबंदी का नया नियम, मौत होने पर तभी मिलेंगे 4 लाख रुपए जब परिवार लिखेगा

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group (Join Now) Join Now

New rule of liquor ban Bihar: शराबबंदी और शराब तस्करी पिछले कुछ सालों की तुलना में इन दिनों काफी कम हो गई है लेकिन आज भी भारत में कई ऐसे राज्य हैं, जहाँ भारी संख्या में लोग इसके शिकार हो रहे हैं। एक ऐसे ही खबर आई है बिहार के मोतिहारी जिले से। बता दें कि मोतिहारी जिले में जहरीली शराब से लोगों की मौत की खबर हर जगह सुनाई दे रही है।

बताया जा रहा है कि जहरीली शराब का सेवन करने से 26 लोगों की मृत्यु हो गई है और वहीं 20 लोग अस्पताल में भर्ती हैं। रिपोर्ट के मुताबिक, इस केस में 80 लोग गिरफ्तार हुए हैं। इसके अलावा 11 पुलिसकर्मी के साथ भी कार्यवाही हो रही है।

4 लाख रुपए मुहैया करवाएगी नीतीश सरकार

जहरीली शराब के सेवन से लोगों के मृत्यु की खबर से चारो तरफ आक्रोश फैल चुका है। यहाँ तक कि जो लोग अस्पताल में भर्ती हैं, उनकी स्थिति भी काफी खराब है। इस मामले में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने भी बातचीत की है।

Read Also: माँ और बच्चे के लिए सरकारी योजना, हर महीने अकाउंट में आएंगे 1500 रुपए, जानिए आवेदन का तरीका

मीडिया से बातचीत के दौरान उन्होंने कहा कि जहरीली शराब पीने की वजह से जिन लोगों की मौत हो चुकी है, उनके परिवार यदि लिखित में देंगे कि वह शराबबंदी को सपोर्ट करते हैं, तभी सरकार इस मामले में अपने कदम आगे बढ़ाएगी। बिहार सरकार उन परिवारों को 4 लाख रुपए मुहैया करवाने वाली है। यह मुख्यमंत्री राहत कोष से वितरित किया जाएगा।

सरकार के प्रति जनता का दिखा आक्रोश

जहरीली शराब से लोगों की मौत के बाद कुछ लोग कह रहे हैं कि शराबबंदी के साथ-साथ शराब तस्करी को रोकना भी बेहद आवश्यक है। उनका कहना है कि सरकार को इस मामले में कदम उठाने चाहिए। लोगों के अंदर सरकार के प्रति आक्रोश साफ झलक रहा है। उनका कहना है कि कुछ सालों से सरकार खुद इस मामले में सफल नहीं हो पाई है।

ट्विटर पर एक यूजर ने इसे सरकार की विफलता बताई है और यह भी कहा है कि सरकार को इसे जिम्मेदारी पूर्वक स्वीकार करना होगा। जिन लोगों की मृत्यु हुई है उनके परिवार वालों को रकम मुहैया करवाना इसके बाद की बात है।

News Desk
News Desk
तमाम नकारात्मकताओं से दूर, हम भारत की सकारात्मक तस्वीर दिखाते हैं।
RELATED ARTICLES

Most Popular