शौक बड़ी चीज है: पंजाब के एक कबाड़ कारोबारी ने खरीदे 6 हेलीकॉप्टर, देखने को उमड़ी लोगों की भीड़

पंजाब के मानसा में एक रोचक मामला सामने आया है। दरअसल, पंजाब के मानसा (Mansa) में एक कबाड़ी की दुकान चलाने वाले व्यक्ति ने भारतीय एयरफोर्स के 6 कबाड़ हेलीकॉप्टर खरीद लिए हैं। सोचिए जब जेसीबी और क्रेन को देखने के लिए ही लोग जमा हो जाते हैं, फिर हेलीकॉप्टर तो लोगों को कितना आकर्षित करते होंगे। इन पुराने कबाड़ हेलिकॉप्टर्स को देखने के लिए लोगों की भीड़ उमड़ पड़ी है और लोग इनके साथ ख़ूब सेल्फी ले रहे हैं।

पंजाब के मानसा के रहने वाले नामी कबाड़ी मिट्ठू राम अरोड़ा (Mitthu Ram Arora) के बेटे डिंपल अरोड़ा (Dimple Arora) ने यह हेलिकॉप्टर्स खरीदे। ये एयरफोर्स के हेलिकॉप्टर्स हैं, जो उत्तर प्रदेश के सहारनपुर जिले के सरसावा एयरबेस स्टेशन से खरीदे गए। बता दें कि ये हेलिकॉप्टर्स उन्होंने ऑनलाइन बोली के द्वारा खरीदे, जिसके लिए उन्होंने पहले टेंडर भरा था, फिर 72 लाख रुपये क़ीमत अदा करके ये हेलिकॉप्टर्स अपने नाम किए। इन एक-एक हेलिकॉप्टर का भार 10 टन है।

हेलीकॉप्टर देख जमा हुई लोगों की भीड़

डिम्पल के पिताजी मिट्ठू राम अपनी कबाड़ की दुकान पर सुईं से लेकर जहाज़ तक हर चीज रखते हैं। 6 हेलिकॉप्टर्स खरीदने के बाद ही 3 हेलिकॉप्टर तो बिक गए, जिनमें से एक मुंबई की पार्टी ने लिया और दूसरा लुधियाना के एक होटल मालिक ने खरीद लिया था। फिर बचे हुए 3 हेलिकॉप्टर्स को वे सोमवार के दिन शाम के समय मानसा ले आए थे।

जैसे ही ये हेलिकॉप्टर्स मानसा पहुँचे, ख़ूब सारे लोग उत्सुकतावश इसे देखने के लिए जमा हो गई। इनमें से बहुत से लोग ऐसे भी हैं जो पहली बार इतने करीब से ज़मीन पर खड़ा हेलीकॉप्टर देख रहे थे, इसलिए लोगों ने हेलीकॉप्टर के साथ या उसके अंदर बैठकर सेल्फी लेना शुरू कर दिया था।

देश-विदेश से खरीदते हैं कबाड़

अपने काम के बारे में डिंपल बताते हैं कि कबाड़ बेचने का यह काम उनके पिता जी मिट्ठू अरोड़ा ने वर्ष 1988 में शुरू किया था और फिर धीरे-धीरे उनका यह काम बढ़ता चला गया। अब तो उनका कबाड़ का यह काम इतना ज़्यादा विस्तृत हो गया है 6 एकड़ ज़मीन पर उनका यह कबाड़ रखा हुआ है।

वे सिर्फ़ मानसा अथवा पंजाब से ही कबाड़ नहीं खरीदते हैं, बल्कि देश में कई जगहों से और विदेश से भी कबाड़ खरीदते हैं। 3 महीने पहले एक दिन जब डिंपल कबाड़ खरीदने के लिए आनलाइन सर्च कर रहे थे, तो उन्हें इन कबाड़ हेलिकॉप्टर्स के बारे में जानकारी मिली। तभी इनको एयरफोर्स में होने वाली 6 कबाड़ हेलिकॉप्टर्स की निलामी और उसके लिए लगने वाली बोली के बारे में भी पता चला था।

फिर डिंपल बिना देर किए 12 लाख प्रति हेलिकॉप्टर के मूल्य से इन हेलिकॉप्टर्स को 72 लाख रुपए में खरीद लाए। वे बताते हैं कि उनमें से 3 हेलिकॉप्टर तो खरीदते ही बिक गए थे फिर बाक़ी हेलीकॉप्टर्स को वे मानसा लाने की तैयारी कर रहे थे, पर लॉकडाउन लगे होने की वज़ह से उन्हें लाने में विलम्ब हुआ। सोमवार शाम ये 3 हेलिकॉप्टर्स को ट्रॉली पर लाद कर मानसा लाए गये। सरसावा से मानसा तक लाने के लिए डिंपल ने प्रति हेलिकॉप्टर के हिसाब से 75 हज़ार रुपये का किराया चुकाया। इन हेलिकॉप्टर्स को देखने के लिए ख़ूब सारे लोग आने लगे थे।

हेलीकॉप्टर की वज़ह से मानसा बना टूरिस्ट स्पॉट

डिंपल ने जो 6 में से तीन हेलिकॉप्टर खरीदे, उनमें से एक हेलिकॉप्टर को लुधियाना रोड पर बने एक होटल के मालिक ने खरीदा और दूसरा हेलिकॉप्टर चंडीगढ़ में रहने वाले एक व्यक्ति ने माॅडल के तौर पर सजावट के लिए खरीदा, इसके अलावा तीसरा हेलिकॉप्टर मुंबई के एक फ़िल्म निर्माता द्वारा खरीदा गया है।

हालाँकि एक कबाड़ विक्रेता के लिए यह हेलिकॉप्टर काफ़ी फायदे का सौदा है, पर फिलहाल मानसा के लोगों के लिए ये हेलिकॉप्टर्स मनोरंजन का साधन बन गए हैं और पूरा शहर मानो एक टूरिस्ट स्पॉट बन गया है। सुबह-शाम हर समय इन्हें देखने वालों का तांता लगा रहता है, लोग बच्चों व परिवार सहित इन्हें देखने आते हैं और कई बार तो भीड़ इतनी जमा हो जाती है कि पुलिस को भी आना पड़ जाता है।