PM की सुरक्षा में तैनात SPG कमांडो को हर महीने मिलती है इतनी सैलेरी, बहुत मुश्किल होती है ट्रेनिंग

0
35
SPG-Commando-Salary-in-Hindi

SPG Commando Salary – भारत में प्रधानमंत्री पर पूरे देश की जिम्मेदारी होती है, जिसकी वजह से इस पद को संभाल रहे व्यक्ति को विभिन्न राज्यों में दौरे के लिए जाना पड़ता है। इस दौरान प्रधानमंत्री की सुरक्षा की जिम्मेदारी SPECIAL PROTECTING GROUP (SPG) के कमांडो पर होती है।

यह कमांडो परछाई की तरह हर वक्त प्रधानमंत्री के साथ रहते हैं, ताकि उन पर किसी प्रकार की मुसीबत न आ सके। लेकिन क्या आपने कभी सोचा है कि पीएम की सुरक्षा की जिम्मेदारी उठा रहे SPG कमांडो को कितनी सैलेरी मिलती होगी और उन्हें किस प्रकार की सुविधाएँ दी जाती होंगी।

SPG-Commando-Salary

SPG के लिए नहीं होती है भर्ती

हमारे देश में आर्मी, नेवी और एयर फोर्स के लिए भर्ती निकाली जाती है, जिसमें देशभर के युवा हिस्सा ले सकते हैं और विभिन्न पड़ावों को पार करके भारतीय सेना का हिस्सा बनते हैं। लेकिन SPG कमांडो बनने के लिए किसी प्रकार की भर्ती प्रक्रिया नहीं होती है, क्योंकि इस पद के लिए IPS, CRPF, BSF और CISR के बेहतरीन सदस्यों को चुनाव किया जाता है।

SPG कमांडो के रूप में उन्हीं जवानों को चुना जाता है, जो अपनी नौकरी के प्रति बेहद सक्रिय और ईमानदार होते हैं। हालांकि कोई भी SPG कमांडो को हमेशा के लिए पीएम की सुरक्षा की जिम्मेदारी नहीं दी जाती है, बल्कि SPG के कमांडो को हर साल बदल दिया जाता है।

SPG कमांडो का कार्यकाल महज 1 साल का ही होती है, इसके बाद उन्हें दोबारा से उनकी मूल पोस्टिंग पर भेज दिया जाता है। ऐसे में पुराने SPG कमांडो की जगह नए कमांडो पीएम की सुरक्षा की जिम्मेदारी निभाते हैं, जो अगले एक साल इस पद पर बने रहते हैं।

SPG-Commando-Training

कड़ी ट्रेनिंग से गुजरते हैं SPG कमांडो

SPG कमांडो की नौकरी बहुत ही जिम्मेदारी भरी होती है, इसलिए इस काम के लिए चुने गए जवानों को कठिन ट्रेनिंग से होकर गुजरना पड़ता है। हालांकि SPG के लिए चुने गए जवान पहले से ही भारतीय सेना का हिस्सा होते हैं और ट्रेनिंग कर चुके होते हैं, लेकिन इसके बावजूद भी उन्हें खास तरह की ट्रेनिंग से गुजरना पड़ता है।

इस ट्रेनिंग को करवाने की जिम्मेदारी यूएस सीक्रेट एजेंट्स को दी जाती है, जिसमें जवानों को फिजिकल ट्रेनिंग के साथ-साथ आधुनिक हथि’यार चलाना भी सिखाया जाता है। इसके अलावा कमांडो को हर वक्त सक्रिय रहने और आपातकालीन स्थिति में दुश्मन से निपटने का तरीका भी बताया जाता है।

सीक्रेट ट्रेनिंग पूरी करने के बाद जवानों को 3 महीने के लिए खास निगरानी में रखा जाता है, जिसमें उनकी सक्रियता और ईमानदारी की टेस्टिंग की जाती है। ऐसा इसलिए किया जाता है कि क्योंकि SPG जवानों पर पीएम की सुरक्षा की जिम्मेदारी होती है, इसलिए उनकी हर हफ्ते परीक्षा भी ली जाती है। ऐसे में इस परीक्षा में पास होने वाले जवानों को आगे भेज दिया जाता है, जबकि फेल होने वाले जवानों को एक बार फिर मौका दिया जाता है।

लेकिन अगर कोई जवान 2 बार परीक्षा में फेल हो जाता है, तो उसे वापस उसकी पोस्टिंग पर भेज दिया जाता है। जबकि पास होने वाले जवानों को प्रधानमंत्री की सुरक्षा की जिम्मेदारी सौंप दी जाती है और इस प्रकार SPR कमांडो की ट्रेनिंग और ज्वाइनिंग होती है।

SPG-Commando-Salary

SPG कमांडो की सैलेरी और ड्रेस भत्ता (SPG Commando Salary)

SPG कमांडो की ड्यूटी बहुत ही मुश्किल होती है और उन्हें हर वक्त चौक्कना रहना पड़ता है, इसलिए इसे 24 घंटे की नौकरी कहना गलत नहीं होगा। ऐसे में SPG कमांडो को हर महीने 84,236 रुपए से लेकर 239,457 रुपए तक सैलेरी दी जाती है, जिसमें हर कमांडो की तनख्वाह उसके रैंक के हिसाब से तय की जाती है।

वहीं सरकारी वेबसाइट की मानें तो SPG कमांडो की प्रति माह तनख्वाह 53,100 से 69,500 रुपए के बीच होती है, जिसमें सालाना 40 प्रतिशत सैलेरी ड्रेस भत्ता भी जोड़ा जाता है। आपको बता दें कि ऑपरेशन ड्यूटी में तैनात SPG कमांडो को 27,800 रुपए और नॉन आपरेशन ड्यूटी वाले कमांडो को 21,225 रुपए सालाना ड्रेस भत्ता दिया जाता है।

हमें उम्मीद है कि इस आर्टिकल को पढ़ने के बाद आपको प्रधानमंत्री की सुरक्षा में तैनात SPG कमांडो की जिम्मेदारियों के बारे में बारिक जानकारी प्राप्त करने में मदद मिली होगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here