घर की छत पर लगाए पांच किलोवाट का सोलर पैनल, हर महीने होगी 6 हजार रुपये की बचत, सीखें तरीका

0
28896
RoofTop-Solar-Panel-4

RoofTop Solar Panel- घर की छत पर पेड़ पौधे लगाने से वातावरण खूबसूरत और खुशहाल लगता है, लेकिन यही घर की छत आपकी बिजली सम्बंधी जरूरत को भी पूरा कर सकती है। अगर आपका घर किसी खुली जगह पर है, जहाँ आसपास ऊंची इमारतें नहीं हैं तो यह बिजली बचाने का बहुत अच्छा विकल्प साबित हो सकता है।

दरअसल घर की खुली छत पर सूरज की धूप काफी अच्छी पड़ती है, जिसमें सोलर पैनल (Solar Panel) लगाए जा सकते हैं। सोलर पैनल के जरिए बिजली की जरूरत भी पूरी हो जाती है, जबकि बिजली के बिल से छुटकारा मिल जाता है। इसके साथ ही सोलर पैनल से उत्पाद होने वाली बिजली के जरिए पैसे भी कमाए जा सकते हैं, आइए इस बारे में विस्तार से जानते हैं-

RoofTop-Solar-Panel

ऑन ग्रिड सोलर पैनल (On Grid Solar Panel System)

अगर आपके घर की छत पर रोजाना 7 से 8 घंटे की धूप रहती है, तो यह सोलर पैनल (Solar Panel) लगाने के लिए बहुत ही उत्तम जगह साबित हो सकती है। सोलर पैनल से तैयार होने वाली बिजली की वजह से गर्मियों में आने वाले भारी भरकम बिल से छुटकारा पाया जा सकता है।

आप अपने घर की छत पर ऑन ग्रिड वाले सोलर पैनल सिस्टम (On Grid Solar Panel System) को लगवा सकते हैं, जो बहुत ही कम समय में ज्यादा बिजली का उत्पादन करने में सक्षम है। ऐसे में आप इस सोलर पैनल के जरिए अपने हिसाब से बिजली का इस्तेमाल कर सकते हैं, जिसकी वजह से बिजली के मीटर पर यूनिट की बढ़ोतरी नहीं होगी और बिल न के बराबर आएगा।

RoofTop-Solar-Panel-1

सोलर पैनल (Solar Panel) लगाने का खर्च और फायदा

आप अपने घर की छत पर 400 से 500 वाट वाली प्लेट का सोलर पैनल लगवा सकते हैं, जिसे खरीदने के लिए आपको 1.25 लाख रुपए तक खर्च करने होंगे। सोलर पैनल को लगवाने और फिटिंग आदि में लगभग 25, 000 रुपए का अतिरिक्त खर्च भी आता है, लेकिन एक बार इस सिस्टम को लगाने के बाद बिजली की समस्या पूरी तरह से खत्म हो जाती है।

1.25 लाख की कीमत से लगाए गए सोलर पैनल के जरिए सिर्फ एक साल में ही 75, 000 रुपए तक की बचत की जा सकती है, जबकि एक नॉर्मल सोलर पैनल की लाइफ 20 साल तक होती है। इस तरह एक बार लाख रुपए खर्च करने पर ग्राहक को 20 साल तक बिजली पर कोई पैसा खर्च करने की जरूरत नहीं पड़ती है, जबकि इसके जरिए मुनाफा काफी ज्यादा होता है।

सोलर पैनल सूर्य की तेज रोशनी से चार्ज होकर बिजली का उत्पादन करता है और स्टोर करके रखता है, ऐसे में आप चाहे तो मैन बिजली कनेक्शन के बजाय सोलर पैनल से तैयार होने वाली बिजली का इस्तेमाल कर सकते हैं। इससे हर महीने आने वाले बिजली का बिल 0 हो जाता है, जबकि काफी सारी बिजली की बचत भी होती है।

सरकार को बेच सकते हैं अतिरिक्त बिजली

अगर आप ऑन ग्रिड वाला सोलर पैनल सिस्टम (On Grid Solar Panel System) लगवाते हैं, तो आप उसके जरिए तैयार होने वाली बिजली को सरकार को बेच सकते हैं। दरअसल इस तरह के सोलर पैनल रोजाना कई वॉट बिजली का उत्पादन करते हैं, जिसकी मदद से घर के इलेक्ट्रिक आइटम यूज करने के बावजूद भी कुछ यूनिट बिजली बच जाती है।

ऐसे में आप उस बची हुई बिजली यूनिट को सरकार के इलेक्ट्रिसिटी ग्रिड में ट्रांसफर कर सकते हैं, जिसके लिए आपके घर से बिजली के खंभे तक एक तार को जोड़ दिया जाता है ताकि सोलर पैनल से तैयार अतिरिक्ति बिजली वहाँ ट्रांसफर हो सके।

घर की छत पर सोलर पैनल लगावने के बाद ग्राहक को बिजली का नया मीटर लगवाना पड़ता है, जिसे नेट मीटरिंग कहा जाता है। इस मीटर में छत पर लगे सोलर पैनल से तैयार बिजली और खंभे तक जाने वाली बिजली की इंपोर्ट-एक्सपोर्ट यूनिज दर्ज होती रहती है। इसी मीटर के जरिए ग्राहक सरकार को या फिर सरकार ग्राहक को बिजली का भुगतान करती है।

रोजाना तैयार होगी इतनी बिजली

गांव, कस्बों और दूर दराज के इलाकों में आज भी बिजली बहुत बड़ी समस्या है, जबकि गर्मी के मौसम में होने वाला पावर कट काफी चिंताजनक होता है। ऐसे में अगर आप घर की छत पर सोलर सिस्टम लगवाते हैं, तो इससे रोजाना 25 यूनिट तक की बिजली तैयार की जा सकती है।

ऐसे में घर के सभी इलेक्ट्रिक आइटम इस्तेमाल करने के बावजूद भी दिनभर में 25 यूनिट बिजली की खपत कर पाना मुश्किल होता है, जिसकी वजह से आप अतिरिक्त बिजली यूनिट को सरकार को बेच सकते हैं। आपको बता दें कि प्रति बिजली यूनिट के लिए 8 रुपए का भुगतान किया जाता है, इस तरह आपको महीने में हजारों रुपए का मुनाफा हो सकता है।

बिजली के यूनिट अलग-अलग जगहों पर अलग-अलग तरह से वसूल किए जाते हैं, ऐसे में ग्राहक बिल के लिए जितनी यूनिट देता है सरकार को भी उन्हें उतने ही रुपए प्रति यूनिट के देने पड़ते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here