लॉकडाउन में नौकरी खोई, अब कर रहे अंकुरित काजू का बिज़नेस, हो रही लाखों की कमाई

कन्नूर के रहने वाले ‘ब्रिजिथ कृष्णा’ ने एक नए रूप में काजू का व्यवसाय करने की कोशिश की और उनके इस इनोवेटिव आईडिया से लोग इतने प्रभावित हुए हैं कि उनका यह आइडिया सुपरहिट हो गया है। उन्होंने पिछले चार महीनों में इरिट्टी नाम के जगह के पास के दूरदराज के गाँव में काजू को अंकुरित (cotyledon germinated cashews) में बदल कर 1 लाख रुपये का कारोबार कर चुके हैं।

टाइम्स ऑफ इंडिया कि रिपोर्ट के अनुसार, 42 साल के कृष्णा लॉक डाउन के कारण अपनी नौकरी से हाथ धो बैठे। हाथ पर हाथ धरे रहने के बजाए 3 क्विंटल काजू के साथ कुछ नया कर अब लाखों कमा रहे हैं। कई जगहों जैसे:-सुपरमार्केट्स से लेकर इंटरनेशनल फ़ास्ट-फ़ूड चेन्स से अब उन्हें ऑर्डर्स भी आ रहे हैं।

TOI

अक्सर लोगों ने पारंपरिक रूप से अंकुरित mazhayandi (काजू जो बारिश में बढ़ सकते हैं) का उपयोग किया है, यह पहला प्रयास है जब राज्य में काजू के बीज के कमर्शियली इस्तेमाल हुआ है। यूं तो स्प्राउट्स का उपयोग साग, सलाद, स्नैक्स और मिल्कशेक तक के व्यंजन बनाने में होता है, जबकि आम तौर पर स्नैक्स के रूप में बीन्स का आनंद लिया जाता है। Madakkathara में केरल कृषि विश्वविद्यालय के द्वारा काजू अनुसंधान स्टेशन ने कृष्णा को स्प्राउट्स के उत्पादन के लिए टेक्नोलॉजी प्रदान की है, जिसके बाद उन्होंने अपने काजू के पौधे भी बेचने शुरू कर दिए हैं।

कृष्णा ने कहा, “लॉकडाउन की वज़ह से, काजू के लिए कोई खरीददार नहीं था और ज़मीन पर गिरने वाले नट्स अंकुरित होने के बाद बेकार हो जा रहे थे। हमने उनके साथ घर पर विभिन्न प्रकार के व्यंजन बनाने की कोशिश की और जब मैंने ये अपने दोस्तों को बताया, तो वह सभी को पसंद आया। तब मैंने उन्हें स्टोर और ग्राहकों को बेचना शुरू कर दिया।” इस तरह आपके पास बस एक इनोवेटिव आईडिया होना चाहिए, आप ज़रूर अपने जीवन में सफल होंगे।