History of FIFA : कैसे हुई थी FIFA World Cup की शुरुआत, Football को कैसे मिला ये नाम, जानिए सबकुछ

History of FIFA : इन दिनों कतर में आयोजित फीफा वर्ल्ड कप (FIFA World Cup) पर हर किसी की नजर टिकी हुई है, जो फुटबॉल प्रेमियों के लिए सबसे बड़ा टूर्नामेंट होता है। फीफा वर्ल्ड कप के दौरान विभिन्न देशों की फुटबॉल टीमों के बीच मैच होता है और आखिर में कोई टीम टूर्नामेंट की विजेता बनती है।

ऐसे में फुटबॉल का यह मैच देखने और खेलने में जितना रोमांचक लगता है, इससे जुड़ा इतिहास (History of FIFA World Cup) भी उतना ही कमाल का है। क्या आप जानते हैं कि फीफा वर्ल्ड कप की शुरुआत कैसे हुई थी और फुटबॉल को यह नाम कैसे मिला था, अगर नहीं तो चलिए आज जानते हैं फुटबॉल गेम का इतिहास।

ऐतिहासिक खेल है फुटबॉल (History of FIFA)

90 मिनट के फुटबॉल मैच में खिलाड़ियों के लिए हर एक सेकंड बहुत ही कीमती होता है, जिसमें हर टीम अपना बेस्ट करने की कोशिश करती है। इस गेम में एक फुटबॉल के पीछे सभी खिलाड़ी भाग रहे होते हैं, जबकि हर टीम को अपने अंक बढ़ाने के लिए फुटबॉल को गोल करना होता है।

कहा जाता है कि फुटबॉल चीन के सूजू नामक खेल का एक विकसित रूप है, जिसे प्राचीन काल में ह्मॉं वंश के लोगों द्वारा खेला जाता था। वहीं जापान में असुका वंश के लोग भी केमरी नामक गेम खेलते थे, जो काफी हद तक फुटबॉल से मिलता जुलता था।

ऐसे में चीन और जापान से होते हुए जब यह खेल सन् 1409 में ब्रिटेन पहुँचा, तो वहाँ इसे एक अलग नाम मिल गया। ब्रिटेन के राजकुमार हेनरी चतुर्थ ने इस खेल को फुटबॉल नाम दिया था, क्योंकि इस गेम को खेलने के लिए बॉल को पैरों से हिट करना पड़ता था।

लेकिन ब्रिटेन के लोगों को फुटबॉल का खेल कुछ खास नहीं लगा था, जिसके बाद सन् 1526 में लोगों को फुटबॉल की तरफ आकर्षित करने के लिए राजा हेनरी ने खास किस्म के जूते बनवाने का आदेश दिया था। इस तरह ब्रिटेन में जूतों के साथ फुटबॉल का गेम खेला जाने लगा, जो देखते ही देखते लोकप्रिय हो गया था।

ऐसे रखी गई थी Fifa World Cup की नींव

इसके बाद 16वीं से 17वीं शताब्दी के बीच फुटबॉल टूर्नामेंट्स का आयोजन किया जाने लगा था, जिसमें दो देशों की टीम एक दूसरे से मुकाबला करती थी। इसी दौरान फुटबॉल के खेल में गोल का नियम भी बनाया गया था, ताकि ज्यादा गोल करने वाली टीम को विजेता घोषित किया जा सके।

इस तरह 20वीं शताब्दी के अंत तक फुटबॉल का खेल ब्रिटेन समेत अन्य देशों में भी प्रचलित हो चुका था, जिसकी वजह से इस खेल के लिए इंटरनेशनल संस्था बनाए जाने की जरूरत थी। ऐसे में डेनमार्क, फ्रांस, स्पेन, नीदरलैंड, स्वीडन, बेल्जियम और स्वीट्जरलैंड जैसे देशों ने फुटबॉल के गेम को लेकर एक बैठक की थी।

इस बैठक के दौरान फुटबॉल को एक लोकप्रिय खेल माना गया था, जिसके बाद यूरोपीय देशों की अगुवाई में 21 मई 1904 को फेडरेशन इंटरनेशनल ऑफ फुटबॉल एसोसिएशन (FIFA) की स्थापान की गई थी। फीफा का मुख्यालय स्वीट्जरलैंड में स्थित है, जो अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर फुटबॉल टूर्नामेंट का आयोजन करवाता है।

Read Also: जब दारा सिंह ने 200 किलो के किंग कॉन्ग को उठाकर रिंग से फेंका था बाहर, ऐतिहासिक जीत की थी हासिल