तुलसी का पौधा सूख गया है तो उसे दोबारा हरा-भरा बनाने के लिए अपनाइए एक्सपर्ट्स की बताई ये टिप्स

0
1404
Grow-Tulsi-Plant-at-Home

Grow Tulsi Plant at Home – हिन्दू धर्म के प्राचीन ग्रंथों में तुलसी के पौधे को पवित्र और पूजनीय माना गया है। इसी वजह से हिंदू धर्म के सभी लोग तुलसी का पौधा अपने घर पर अवश्य लगाते हैं। यह पौधा हमारे लिए धार्मिक तथा वैज्ञानिक दोनों ही प्रकार से महत्त्वपूर्ण होता है। आयुर्वेद विज्ञान में भी तुलसी के पौधे को औषधीय गुणों से युक्त बताया है।

अतः यह पौधा किसी के लिए धर्म व आस्था का प्रतीक है, किसी के लिए स्वास्थ्यकारी गुणों से युक्त औषधि है, जिससे कई रोगों का विनाश होता है। इसी कारण से अमूमन हर व्यक्ति अपने घर में तुलसी का यह गुणकारी पौधा जरूर लगाता है। परन्तु इस सम्बंध में अक्सर लोगों की यह समस्या रहती है कि ये पौधा शीघ्र ही सूख जाता है।

क्यों सूखता है तुलसी का पौधा

वैसे तो तुलसी का पौधा (Tulsi Plant) सूखने की बहुत-सी वजह हो सकती हैं। इस मुद्दे पर बांदा के कृषि विज्ञान केंद्र के सीनियर साइंटिस्ट व हेड डॉक्टर आनंद सिंह ने बताया कि सूखे हुए तुलसी के पौधे को फिर से हरा-भरा किया जा सकता है। डॉक्टर आनंद सिंह बताते हुए कहते हैं कि कई लोग ऐसा सोचते हैं कि गर्मी के मौसम में लू लगने की वजह से तुलसी का पौधा सूख जाया करता है, कुछ लोगों का यह भी मानना है कि सर्दियों के मौसम में कोल्ड लगने की वजह से तुलसी का पौधा नष्ट हो जाता है। परंतु जब वे लोग देखते हैं कि वर्षा ऋतु में भी उनका तुलसी का पौधा जीवित नहीं रह पाता और खराब हो जाता है तब उनके द्वारा सोची गई सभी धारणाएँ गलत साबित हो जाती हैं।

क्योंकि इस पौधे को बहुत ज्यादा पानी की आवश्यकता नहीं होती है। इतना ही नहीं, तुलसी के पौधे की बहुत अधिक देखभाल करने की भी आवश्यकता नहीं होती है। इसकी वजह यह है कि यह असल में एक ट्रॉपिकल प्‍लांट है, अतः इस पौधे को कम पानी, कम धूप व कम हवा की जरूरत पड़ती है, उसी में यह अच्छे से वृद्धि कर सकता है। परन्तु फिर भी अगर यह पौधा सूखने लगे तो कुछ आसान तरीकों से आप इसे पुनः हरा-भरा बना सकते हैं। तो चलिए जानते हैं सूखे हुए तुलसी के पौधे को फिर से नया जीवन देने के कुछ आसान टिप्स… Tulsi Plant Tips

नीम की पत्तियों का पावडर दिखाएगा कमाल

डॉक्टर आनंद सिंह ने पूरी तरह से सूख चुके तुलसी के पौधे (Tulsi Plant) को फिर से हरा-भरा करने के लिए एक अचूक उपाय बताते हुए कहा कि आपको हर माह नीम की पत्तियों को सुखाकर सिर्फ 2 चम्‍मच उसका पावडर तुलसी के पौधे में डालना होगा। फिर देखिए इस पौधे में नई-नई पत्तियाँ उगने लगेगी तथा पौधा सूखने से बचेगा। बस ध्यान रहे कि आपको नीम की पत्तियों का पाउडर तुलसी के पौधे की मिट्टी में ठीक प्रकार से मिक्स कर देना है। यह उपाय तुलसी के पौधे के लिए बहुत फायदेमंद रहता है।

ऑक्सीजन मिलना भी है जरूरी

वर्षा ऋतु में जब तुलसी के पौधे में पानी ज्यादा जमा हो जाता है, तो उसके पत्ते झड़ने लगते हैं, क्योंकि तुलसी के पौधे को आवश्यकता से अधिक नमी मिलना भी उसके लिए हानिकारक होता है। ऐसा होने पर पौधे की जड़ विश्वास नहीं ले सकती है तथा कुछ ही समय में यह पौधा सूखने के स्थिति पैदा हो जाती है। इस परिस्थिति का हल बताते हुए डॉक्टर आनंद सिंह ने एक सरल उपाय सुझाया है।

उन्होंने बताया कि इस समस्या से निपटने के लिए आप तुलसी के पौधे से 15 सेंटीमीटर की दूरी पर उसकी मिट्टी को 20 सेंटीमीटर तक की गहराई पर खोदिए, अब आपको महसूस होगा कि इसकी मिट्टी में नमी है। जड़ों में नामी दिखाई देने पर उसमें सूखी मिट्टी तथा बालू भरिए। यह उपाय करने से पौधे की जड़ों को फिर से हवा मिलने लगेगी और वह श्वास ले पाएंगी।

फंगल इंफेक्शन के लिए ये उपाय है कारगर

ऐसा भी हो सकता है कि ज्यादा नमी की वजह से तुलसी के पौधे में फंगल इंफेक्शन हुआ हो, ऐसा है तो इसे ठीक करना भी आवश्यक होता है। इस परेशानी के लिए डॉक्टर आनंद सिंह ने बताया कि मार्केट में आपको नीम की खली का पाउडर सरलता से प्राप्त हो जाएगा। इस पाउडर को नीम सीड पाउडर (Neem Seed Powder) भी कहा जाता है। अगर आप नीम सीड पावडर की 15 ग्राम मात्रा पौधे की मिट्टी में मिला देंगे तो उससे फंगल इंफेक्‍शन की समस्या खत्म हो जाएगी।

यदि आपके पास यह है पाउडर उपलब्ध नहीं भी है तो टेंशन लेने की जरूरत नहीं, आपको बस इतना करना है कि अपने घर पर ही नीम की पत्तियों को पानी में उबालकर उसके पानी को ठंडा होने पर एक बोतल में भर लीजिए। फिर हर 15 दिन में एक बार पौधे की मिट्टी को खोदकर उसमें दो चम्मच नीम का यह पानी डाल दीजिए। आपकी यह परेशानी भी दूर हो जाएगी।

धुंए और तेल से रखें दूर

डॉक्टर आनंद सिंह ने कहा कि ‘ हम जानते हैं कि तुलसी का पौधा (Tulsi Plant) लोगों की आस्था और धर्म से सम्बंधित है और लोग इसकी पूजा किया करते हैं। आप भी इसकी पूजा अवश्य कीजिए परंतु जय ध्यान रखिए की हर रोज तुलसी की पत्ती मत तोड़िए। इसके अलावा यदि आप पौधे के पास दीपक और अगरबत्ती लगाते हैं तो उन्हें पौधे से दूरी पर रखिए, क्योंकि धुएँ व तेल से भी तुलसी के पौधे को हानि पहुँचती है और वह खराब हो सकता है।

हमारे द्वारा आर्टिकल में बताए गए एक्सपर्ट्स के टिप्स को अगर आप आजमाते हैं, तो यकीन मानिए 1 महीने में ही आपके सूखे हुए तुलसी के पौधे (Tulsi Plant) में नई जान आ जाएगी और उसमें पत्तियाँ निकलती हुई दिखेंगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here