बेटी के जन्म से लेकर पढ़ाई तक का पूरा खर्च उठाएगी सरकार, जानें क्या है ये खास योजना

Balika Samridhi Yojana : भारत में आम नागरिकों के कल्याण के लिए केंद्र और राज्य सरकारों द्वारा विभिन्न प्रकार की योजनाएँ चलाई जाती हैं, ताकि प्रत्येक नागरिक सुविधाजनक जीवन व्यतीत कर सके। ऐसे में बेटियों के उज्ज्वल भविष्य के लिए देश में बालिका समृद्धि योजना चलाई जाती है, जिसकी शुरुआत साल 1997 में हुई थी।

इस योजना के तहत गरीबी रेखा के नीचे जीवन व्यतीत करने वाले परिवारों के बेटियों को शिक्षा और रोजगार के क्षेत्र में सरकार की तरफ से मदद की जाती है, जबकि बालिका समृद्धि योजना (Balika Samridhi Yojana) का लाभ एक परिवार की 2 बेटियाँ उठा सकती हैं।

क्या है बालिका समृद्धि योजना?

साल 1997 में जब देश में बालिका समृद्धि योजना (Balika Samridhi Yojana) शुरू की गई थी, तो उस वक्त देश में बेटियों के जन्म, शिक्षा और रोजगार के प्रति लोगों की सोच काफी रूढ़िवादी हुआ करती थी। ऐसे में लड़कियों को लड़कों की तरह समान अवसर नहीं मिल पाते थे, जिसकी वजह से सरकार ने लड़कियों को आत्मनिर्भर बनाने के मकसद से इस योजना की शुरुआत की थी।

बालिका समृद्धि योजना के तहत गरीबी रेखा के नीचे जीवन व्यतीत कर रहे परिवार की महिला अगर बेटी को जन्म देती है, तो उसे 500 रुपए की आर्थिक सहायता दी जाती है। इसके साथ ही बेटी की उम्र बढ़ने के बाद उसकी शिक्षा का सालाना खर्च भी सरकार द्वारा उठाया जाता है, ताकि बेटी को शिक्षा से वंचित न रहना पड़े।

इस योजना के तहत पहली से तीसरी कक्षा की तरह की छात्राओं को सालाना 300 रुपए की मदद दी जाती है, जबकि चौथी और पांचवी कक्षा में दाखिला लेने के बाद 500 व 600 रुपए की सहायता राशि दी जाती है। वहीं 7वीं और 8वीं कक्षा में सालाना 700 व 800 रुपए दिए जाते हैं, जबकि 10वीं और 12वीं कक्षा के दौरान छात्राओं को 1 हजार रुपए छात्रवृत्ति दी जाती है।

कैसे करें आवेदन?

अगर आप गरीबी रेखा के नीचे आते हैं, तो उस स्थिति में आप इस योजना के लिए आवेदन कर सकते हैं। इसके लिए किसी भी आंगनवाड़ी या स्वस्थ्य केंद्र में बेटी का नाम लिखवाया जा सकता है, जिसके बाद आगे की प्रक्रिया आंगनवाड़ी क्रेंद के कर्मचारियों द्वारा पूरी की जाती है।

आप चाहे तो इस योजना के लिए ऑनलाइन भी आवेदन कर सकते है, लेकिन उसमें दी गई जानकारी बिल्कुल ठीक होनी चाहिए। बालिका समृद्धि योजना के लिए बेटी का जन्म प्रमाण पत्र, माता-पिता का आधार कार्ड, राशन कार्ड और वोटर आई कार्ड जैसे दस्तावेजों की जरूरत पड़ती है, जबकि माँ या बेटी के नाम पर बैंक अकाउंट की डिटेल भी शेयर करनी होती है।

18 साल की उम्र तक कर सकते हैं आवेदन

आपको बता दें कि बालिका सृमद्धि योजना (Balika Samridhi Yojana) का लाभ उठाने के लिए 15 अगस्त 1997 के बाद पैदा होने वाली लड़कियों के नाम पर आवेदन किया जा सकता है, जबकि लड़की की उम्र 18 साल से कम होना भी अनिवार्य है। इस योजना के तहत 18 साल से कम उम्र की लड़कियों के नाम पर बैंक अकाउंट में हर महीने पैसे जमा किए जाते हैं, जिन्हें बेटी के बालिक होने पर निकाला जा सकता है।

इस रकम को माता-पिता बेटी की उच्च शिक्षा के लिए इस्तेमाल कर सकते हैं या फिर उसकी शादी का खर्च उठा सकते हैं, लेकिन अगर माता-पिता बेटी के 18 साल पूरे होने से पहले ही उसाक विवाह कर देते हैं, तो उस स्थिति में बेटी को योजना (Balika Samridhi Yojana) का कोई लाभ नहीं मिलेगा।

इसे भी पढ़ें – बेटी की शादी के लिए इस प्लान में निवेश करें पैसा, 7 साल में मिलेंगे 50 लाख रुपए